Friday, 11 August 2017

ऐसी शिक्षण संस्थाएं खुलें जो लोगों को जीना सिखाएं

  आज  की  सबसे  बड़ी  समस्या  है  कि  लोगों  को  जीना  नहीं  आता   l     गरीब   के  जीवन  में  विभिन्न  परेशानी  आती  हैं  तो  अपनी  गरीबी  के  साथ  वह  उन्हें  भी  झेल  लेता  है   और  अपने   सीमित  साधनों  में  तीज - त्योहार  आदि  अवसर  पर  अपने  परिवार  और  अपने  समाज  के  साथ  खुशियाँ  भी  मना  लेता  है  l  कष्ट  कठिनाइयों  में  रहने  से  उसकी  संघर्ष  क्षमता  विकसित  हो  जाती  है  l
  लेकिन  जो  लोग   सुख - सुविधाओं  में  रहते हैं ,  आरामतलबी  का  जीवन  जीते  हैं  ,  उनकी   श्रम  करने  की  आदत  नहीं   होती    l  थोड़ी  सी  परेशानी  भी  उन्हें  विचलित  कर  देती  है   l
  शिक्षा  ऐसी  हो  जो  व्यक्ति  को  श्रम  करना ,  कर्तव्य  पालन  करना ,  ईमानदारी  और  सच्चाई  से  रहना  सिखाये  l    लोग  थोडा  सा  धन - वैभव  और  किताबी  ज्ञान  होने  से  अहंकारी  हो  जाते  है  ,  उनके  पैर  जमीन  पर  नहीं  पड़ते   l  ऐसे  लोगों  का  अहंकार  सम्पूर्ण  समाज  के  लिए  घातक  हो  जाता  है  l
  नम्रता ,  करुणा ,  संवेदना ,  परोपकार   जैसी  भावनाएं   जब  जीवन  की  शुरुआत  से  ही  बच्चों  को  सिखाई  जाएँगी   तभी  एक  स्वस्थ , सुन्दर समाज  होगा  l   इन  भावनाओं  के   अभाव  में  व्यक्ति  निर्दयी  हो  जाता  है  l 

No comments:

Post a Comment