Tuesday, 22 August 2017

मानसिकता में परिवर्तन जरुरी है

         मनुष्य   के   जैसे  विचार  होते  हैं  वह  उसी  के  अनुरूप  कार्य  करता  है   l  जब  व्यक्ति  अपने  को  श्रेष्ठ   और   ताकतवर  समझता  है  ,  अहंकारी  होता  है   तब  वह  अपनी  हुकूमत  अपने  से  कमजोर  पर  चलाता  है  l  ऐसे  कमजोर  में  चाहे -- नारी  हो , अपने  कार्यस्थल  के  कर्मचारी  हों    या  अपने  ही  बच्चे  हों ,  --- वे  सबको  अपने  अनुशासन  में  चलाना  चाहते  हैं  l  ऐसी  ही  सोच  से  समाज  में  अत्याचार  बढ़ते  हैं  l  वक्त  के  साथ  अत्याचार  का  रूप  बदल  जाता  है  l   पहले  समाज  में  अनेक  कुप्रथाएं  थीं -- सती-प्रथा  थी ,  बाल -विवाह  थे  l  समाज - सुधारकों  के  अनेक  प्रयासों  से  यह  कुप्रथाएं  समाप्त  हुईं  तो  अब  दहेज़ -हत्या ,  कन्या -भ्रूण -हत्या  ,  बलात्कार  फिर  हत्या ----- !  
      केवल  नारी  ही  उत्पीड़ित  नहीं  है ,   ऐसे  अहंकारी  अपने  बच्चों  के  लिए  भी  घातक  हैं ,   अनेक  जो  उच्च  पदों  पर  होते  हैं ---डाक्टर , इंजीनियर, नेता  --- वे  अपने  बच्चों    की   रूचि  का  ध्यान  नहीं  रखते  ,  अपने  धन  और  पद  के  बल  पर   , उचित - अनुचित  हर  प्रयास  करके   उन्हें   अपनी  इच्छा  अनुसार  चलाना  चाहते  हैं ,  ताकि  समाज  में  उनकी ' झूठी  प्रतिष्ठा '  बनी  रहे ,  इसके  लिए  चाहे  बच्चे  कुर्बान  हो  जाएँ ,  उनकी  ' प्रतिष्ठा '  बनी  रहे  l
  समाज  में  सुधार   के  निरंतर  प्रयास  जरुरी  हैं ,  लेकिन  स्थायी  सुधार  तभी  होगा   जब  लोगों  के  ह्रदय  में  संवेदना  होगी ,  दूसरे  के  सुख - दुःख  को  अपना  समझेंगे  l  शक्ति  और  अहंकार  से  नहीं  ,  सद्गुणों  से  लोगों  का  ह्रदय  जीतेंगे  l 

No comments:

Post a Comment