Tuesday, 15 August 2017

जागरूकता जरुरी है

    लोगों  को  अपना  गुलाम  बनाना ,  उनका  शोषण  करना ,   अन्याय , अत्याचार  करना ,  नारी  जाति  को  उत्पीड़ित  करना  ----- यह  हर  उस  व्यक्ति  की  प्रवृति  है  जिसके  पास  थोड़ी  भी  ताकत  है  l    यदि   दंड  का  भय  न  हो  तो   समाज  में  कायरता  बढ़  जाती  है   l  समाज  में  सारे  उत्पीड़न  का  दायित्व  कायर  लोगों  पर  है  ,  कायरता  इस  समाज  का  सबसे  बड़ा  कलंक  है  l  इसी  वजह  से  हम  सदियों  तक  गुलाम  रहे  l  राजनैतिक  रूप  से  चाहे  हम  आजाद  हो  गए  हों  ,  पर  शोषण , अत्याचार , अन्याय  समाप्त  नहीं  हुआ  l  अत्याचारी  के  चेहरे  बदल  गए  ,  नये  कलाकार  आ  गये  l
  सही  मायने  में  हम  तभी  आजाद  होंगे  जब  लोगों  की  दुष्प्रवृत्तियों  पर  अंकुश  होगा  l    दुष्प्रवृत्तियों  का  अंधकार  बहुत  सघन  है  ,  जनता  अपना  रोल -माँडल  किसे  चुने   ?

No comments:

Post a comment