Friday, 18 August 2017

अस्तित्व के लिए संघर्ष

    समाज  में    तरह - तरह    भेद  होते  हैं ---- ऊँच-नीच ,  अमीर- गरीब  धर्म  के  आधार  पर  वर्ग  भेद   l  इन  सब  से  बढ़कर  एक  और  वर्ग  भेद   संसार  में   बहुत  समय  से  है  --- यह  योग्यता   के  आधार  पर है ---- योग्य  और  अयोग्य  l      जो  वास्तव  में    योग्य  है  ,  ईमानदारी  और  समर्पण  भाव  से  कार्य  करते  हैं  , वे  अपने  साथ  औरों  को  भी  आगे  बढ़ाते  हैं ,  इससे  पूरा  समाज  और  राष्ट्र  तरक्की  करता  है  l
     लेकिन  जब  किसी  समाज  में  दुर्बुद्धि  का  प्रकोप  होता  है   तब  अयोग्य  व्यक्ति   बड़ी   मजबूती  से  संगठित  हो  जाते  हैं   l  अपने  अस्तित्व  को  बनाये  रखने  के  लिए   वे  ऐसा  ताना - बाना  बुनते  हैं  कि  किसी  की  योग्यता  से  समाज  परिचित  ही  न  हो  पाए l   क्योंकि  यदि  योग्य  व्यक्ति  सामने  आ  गया  तो  उनकी   अयोग्यता    जग - जाहिर  हो  जाएगी  l   संगठित  होना   ऐसे  लोगों  की  मज़बूरी  है  l   मनुष्यों  में  यह  कछुआ  प्रवृति  होती  है ,  कोई  आगे  बड़े   तो  उसकी  टांग  खींच  लेते  हैं  l    ऐसे  लोगों  की  वजह  से  ही  समाज  में  अशांति ,  अपराध , भ्रष्टाचार  बढ़ता  है  l
    ऐसी  स्थिति  से  निपटने  के  लिए  जरुरी  है  कि  सच्चाई  और  ईमानदारी  से  कार्य  करने  वाले  अपने  कर्तव्य - पथ  पर  डटे  रहें ,  संगठित  हों ,  पलायन  न  करें   l  हर  रात्रि  के  बाद  सुबह  अवश्य  होती  है  l 

No comments:

Post a comment