Sunday, 20 August 2017

अशांति का मूल कारण ------ कर्तव्य की चोरी

  आज  की  सबसे  बड़ी  जरुरत  है ---- नैतिक  शिक्षा  l  लोगों  को  अपने  संस्कृतिक  मूल्यों  का  ज्ञान  हो ,  ह्रदय  में  संवेदना  हो  ,  पराये  दुःख  को  अपना  समझें ,  किसी  को  हानि  न  पहुंचाए ---- जब  तक  यह  सब  भावनाएं  व्यक्ति  में  नहीं  होंगी  ,  वह  ईमानदारी  से  अपना  कर्तव्यपालन  नहीं  करता  l   लोगों  को  जोर - जबरदस्ती  से  सच्चाई  के  रास्ते  पर  नहीं  चलाया  जा  सकता  l   जनता  में  अनुकरण  करने  की  प्रवृति  होती  है  ,  जैसा   आचरण  वे   धन , पद  और  सामर्थ्य  में  अपने  से   अधिक  ऊंचाई  वाले ,  बड़े  लोगों  का  देखती  है   वैसा  ही  अनुकरण  जनता  करती  है   l  पारिवारिक ,  सामाजिक  और  राजनैतिक  हर  क्षेत्र  में  यह  बात  लागू  होती  है  l   समाज  में   बहुत  बड़े  परिवर्तन  की  जरुरत  है   l   विभिन्न  क्षेत्रों  में  विभिन्न  पदों  पर  ऐसे  व्यक्ति  हों  जो  अपने  आचरण  से  शिक्षा  दें   l 

No comments:

Post a comment