Tuesday, 8 August 2017

आचरण से शिक्षा दें -----

  प्रवचनों  का  , उपदेशों  का  लोगों  पर  कोई  विशेष  प्रभाव  तब  तक  नहीं  पड़ता   जब  तक     उपदेश  देने  वाला  स्वयं  उन  बातों  को  अपने  आचरण  में  नहीं   उतारता  l  जब  कोई  व्यक्ति  स्वयं  श्रेष्ठ  आचरण  करता  है  और  फिर  वैसा  ही  श्रेष्ठ  आचरण  करने  का  लोगों  को  उपदेश  देता  है  तो  उसकी  वाणी  में  प्राण  आ  जाते  है  और  उसकी  कही  हुई  बात  श्रोताओं  के  ह्रदय  में    उतर  जाती  है  और  वे  उसकी  बताई  राह  पर  चलने  लगते  हैं  l  ऐसे  लोग  आज  बहुत  कम  हैं   l    धन  की  चकाचौंध  ने  व्यक्ति  को  दोरंगा  बना  दिया  l  परदे  के  सामने  कुछ  है  और  परदे  के  पीछे  कुछ  और  है   l  चाहे  पारिवारिक  जीवन  हो ,  सामाजिक  या  राजनीतिक,    यह  खोखलापन  सब  जगह  है   l  बूढ़े  होते  लोग  भी   अपनी  कामना ,  वासना ,  लोभ ,  लालच  का  त्याग  नहीं  कर  पाते  ,   तो  वे  समाज  को  क्या  शिक्षा  देंगे  ?  कौन  सा  आदर्श  प्रस्तुत  करेंगे  ?    प्रकृति  ने  ऐसी  व्यवस्था  की  है  कि    मृत्यु  होने  पर  कोई  अपने  साथ  कुछ  नहीं  ले  जा  सकता ,  अन्यथा  आज  का  मनुष्य   सारा  धन - वैभव   अपने  साथ  बाँध  कर  ले  जाता  l 

No comments:

Post a comment