Friday, 25 August 2017

धन और पद का लालच अशान्ति का कारण है

     जनसँख्या  के  एक  छोटे  से  भाग  के  पास  ही  धन , पद व  प्रतिष्ठा  होती  है   ,  यदि  इस  शक्ति  का  सदुपयोग  किया  जाता  है  तो  पूरे  समाज  का ,  जनसँख्या  के  एक  बड़े  भाग  का  कल्याण  होता  है    लेकिन  जब  इस  शक्ति  का  दुरूपयोग  होता  है ,  इन  लोगों  में   अपने  इस  ' सुख '  का  लालच  आ  जाता  है    तो  उसका  परिणाम  यह  होता  है   कि   धन  व  पद  के  ठेकेदार  तो  अपने  मजबूत  घरों  में  सुरक्षित  रहते  हैं ,  चैन  की   वंशी  बजाते   हैं    और  आम  जनता ,  जनसँख्या  का  एक  बड़ा  भाग    अराजकता  और  अव्यवस्था  में  पिसता   और  भयभीत    रहता     है  l
  जनता  को  अब  जागने  की  और  स्वाभिमान  से  जीने    की   जरुरत  है   l   आज  हर  व्यक्ति  स्वार्थी   हो  गया  है  ,   लोगों  को  सम्मोहित  कर  के ,  तरह - तरह  से  बेवकूफ  बनाकर  लोग  अपना  स्वार्थ  सिद्ध  करते  हैं  l  जब  लोग  अपनी  मेहनत,  अपने  ईमान  पर  भरोसा  करके  स्वाभिमान  से  जीना  सीखेंगे    तभी  शान्ति  होगी  l 

No comments:

Post a comment