Wednesday, 30 August 2017

धन - सम्पति की अधिकता बुराई की जड़ है

     धन - सम्पति  जरुरी  भी  है   लेकिन  इसकी  अधिकता  से   व्यक्ति  चाहे  कोई  भी  हो  उसमे  बुरी  आदतों  का  समावेश  होने  लगता  है  l   बहुत  कम  ऐसे  लोग  होते  हैं  जो  धन  का  सदुपयोग  करें , बुराइयों  से  बचे  रहें  l   आजकल  के  बाबा - बैरागियों  के  पास  अपार  सम्पदा  है ,  यह  सम्पदा देश - दुनिया  में  कहाँ  तक  फैली  है ,  इसका  आकलन  करना  कठिन  है  l  एक  सामान्य  व्यक्ति    के  पास   तो  देने  के  लिए  अपनी  आस्था  और  श्रद्धा  है  ,  वह  अपनी  मेहनत   की    कमाई  में  से  बहुत  कम  चढ़ावा  चढ़ा  पाता  है  ,  फिर   इन  बाबाओं  के  पास   करोड़ों   की   सम्पदा , इतना  वैभव     कहाँ  से  आता   है  l   जो  लोग  गलत  रास्ते  से  अपार  धन  कमाते  है ,  वे  ऐसे  बाबाओं  के  माध्यम  से  अपना  धन  ठिकाने  लगाते  हैं   l  इससे  उन्हें  दोहरा  लाभ  हो  जाता  है --- एक  तो  मन  का  अपराध - बोध  कुछ  कम  हो  जाता  है   और  दूसरा  वे  इनके  माध्यम  से  अपने  बड़े - बड़े ,  हर  तरह  के  स्वार्थ  सिद्ध  कर  लेते  हैं   l  अब  जरुरत  है  जागरूकता   की ,  अपनी  क्षमताओं  पर   और  उस  अज्ञात  शक्ति  पर  विश्वास  रखने  की   l 

No comments:

Post a comment