Sunday, 27 August 2017

मानसिक गुलामी

     राजनैतिक  रूप  से  पराधीनता  से  मुक्त  होना  ही  पर्याप्त  नहीं  होता  l   वर्षों  गुलामी  भोगते - भोगते  यदि  हमारी  गुलाम  रहने  की  आदत  बन  चुकी  है   तो  हम  किसी  न  किसी  कि  गुलामी  करते  ही  रहेंगे  l  जिस  भी  व्यक्ति  के  पास  थोड़ी  भी  ताकत  होती  है  ,  वह  अपने  शक्ति - प्रदर्शन  के  लिए  लोगों  को  अपना  गुलाम  बना  लेता  है  l   युवा - वर्ग  में  सबसे  ज्यादा  ऊर्जा  होती  है  ,  जीवन  का  इतना  अनुभव  नहीं  होता  , अत:  यह  वर्ग    बड़ी  जल्दी   लोगों  के  बहकावे  में  आ  जाता  है  l  अपने ' आका ' के  कहने  पर ये  लोग  सड़कों  पर  नारे बाजी  कर  लें  ,  दंगे - फसाद  कर  लें  ,  तोड़ -फोड़  आदि  हिंसक  कारनामे  कर  लें    इन  लोगों  के  पास  सोचने - समझने   की    शक्ति  नहीं  होती   l  विवेक  न  होने  के  कारण  उनके  इशारों  पर  कठपुतली   की   तरह   नाचते  हैं  l    यह  स्थिति  छोटे - बड़े  हर  क्षेत्र  में  है  l
     इस मानसिक  गुलामी  से  तभी  मुक्ति  मिल  सकती  है   जब  बच्चों  को  शुरू  से  ही  परिश्रमी  और  स्वाभिमानी  बनाया  जायेगा  l  

No comments:

Post a comment