Wednesday, 11 February 2015

मन को स्वस्थ कैसे रखें

योग - आसन   से  शरीर  तो  स्वस्थ  हो  जाता  है  लेकिन  यदि  मन  स्वस्थ  नहीं  है  तो  व्यक्ति  इस  स्वास्थ्य  का  प्रयोग  गलत  आदतों  में  करता  है  और  परिणामत: फिर  से  अस्वस्थ  रहने  लगता  है  ।
इसलिए  हमारे  आचार्य , ऋषियों  ने  योग  के  साथ  तप  को  आनिवार्य  बताया  है  ।
   योग  और  तप   का  जोड़ा  है  ।  यह  तप  पहाड़ों  पर   एकांत  स्थान  में  संभव  नहीं  है  ।  हमारे  आचार्य  ने ,  ऋषियों  ने  सामान्य  व्यक्तियों  के  लिए  तप   का   बहुत  सरल  रूप  बताया  हैं  कि ---   संसार  में  रहते  हुए   हम  श्रेष्ठ  भावना  के  साथ  कर्तव्य  पालन  करें , घर -परिवार , व्यवसाय , सामाजिक - जीवन ,  कहीं  भी   कोई  भी  कार्य  करें  उसे  पूर्ण   मनोयोग  से  पूजा  समझ  कर  करें  तो यही  कार्य  हमारा  तप  कहलायेगा   ।
 ईमानदारी  से  किये   गये   ऐसे  तप  से  ही  जीवन  में  सफलता  का  पथ  प्रशस्त   होगा  |
 यदि  संसार  के  वे   सभी   व्यक्ति  जो  योग  करते  हैं ,  ईमानदारी   से   कर्तव्य  पालन  का  तप  भी  करने  लगें   तो   उनके  प्रखर  व्यक्तित्व  से  प्रभावित  होकर  अन्य भी  कर्तव्य  पालन    करेंगे  इससे  अधिकांश  समस्याएं  स्वत: ही  हल  होने  लगेंगी  । 

No comments:

Post a comment