Friday, 27 February 2015

मन की शांति के लिए मन पर नियंत्रण बहुत जरुरी है

निर्धन  की  तो   केवल   एक   समस्या   है   कि   वो   निर्धन   है   लेकिन   जो   धनी   हैं , सर्वसुविधा   संपन्न   हैं   उनकी   हजार   समस्याएं   हैं   ।  मन   अशांत   है ,  मुलायम  बिस्तर  पर  हैं  लेकिन  सारी  रात  करवटें  बदलते  है ,  नींद  नहीं  आती , रात  कटनी  मुश्किल  है   ।   इसका  कारण  है कि  मनुष्य   का  अपनी  इच्छाओं  पर  नियंत्रण  नहीं  है   । धन-संपन्न   हो   जाने  से इच्छाएं  तो  बहुत अधिक  पूरी  हो  जाती  हैं  लेकिन  फिर  उन  इच्छाओं  को  सुरक्षित  रखने  का  डर  मन  में  पैदा   हो  जाता  है  । व्यक्ति  उन  इच्छाओं  को  पकड़कर  जीना  चाहता  है ---- कहीं  बीमार   न  हो  जायें  , धन -संपदा  समाप्त  न  हो  जाये , उसे  छुपाने  की  चिंता , प्रतिष्ठा  कम  न हो  जाए --- इस  प्रकार  की  विभिन्न  चिंताएं  आँखों  की  नींद  उड़ा  देती  हैं  ।
       सुख -शांति  का  जीवन  जीना  है , चैन  की  नींद  सोना  है  तो अपने  धन  का  थोड़ा  सा  भाग  निर्धनो  की  चिकित्सा  पर  खर्च  कीजिये  ,  खुशियों  को बांटकर ही आप  खुश  हो  सकते  हैं  ।
           सेवा, परोपकार  के  कार्य  जो  नि:स्वार्थ भाव  से  किये  जाते  हैं  वे  मन  को  नियंत्रित  करने  की  दवाई  का  काम  करते  हैं   ।  मन  को  नियंत्रित  करना  सरल  नही  है,  किसी  के  उपदेशों  से,  पूजा-प्रार्थना  से,  जबरन  रोकने  से  मन  नहीं  नियंत्रण  में  आता  ।  मन  को  नियंत्रित  करने  की  तो  केवल  एक  ही  औषधि  है----- नि:स्वार्थ सेवा-परोपकार  के  कार्य  ।  इस  औषधि  को  लेकर  देखिये---- इस  प्रकार  के  कार्य  नियमित  करने  से  हमारा  मन  निर्मल  हो  जाता  है,  मन  की  भाग-दौड़  थमने  लगती  है  और  जब  मन  शांत  होगा  तो  सारी  समस्याएं  स्वत: ही  हल  होने  लगती  हैं  । 

No comments:

Post a Comment