Wednesday, 18 February 2015

विपरीत परिस्थिति में धैर्य रखें

जीवन  में  जब कभी   भी  घोर   संकट   हो ,  कठिन  परिस्थितियां  हो  तब  हमें धैर्य  रखना  चाहिए , चिंता  नहीं  करनी  चाहिए ।  चिंता  करने  से  कभी  कोई  समस्या  हल  नहीं  होती  ।  अधिकांश  व्यक्ति  चिंता  करने  में  ही  सारा  समय  गुजार  देते  हैं , समस्या  का  हल  नही  खोजते  ।  इसलिए  चिंता  करते -करते  वे  विभिन्न  बीमारियों  से  ग्रस्त  हो  जाते  हैं  ।
जीवन  में  समस्याएं  आने  पर  जैसे --- नौकरी  चली  गई , व्यवसाय  में  घाटा  हुआ ,  पारिवारिक  झगड़े , परस्पर  कलह  आदि  विभिन्न  ऐसी समस्याएं  हैं  जिनका  तुरंत  कोई  हल  नहीं  सूझता  इसलिए  हमें  धैर्य  की  जरुरत  होती  है  ।  ऐसी  परिस्थितियों  में  हम  ईश्वर  से  प्रार्थना  करें  कि  वे  हमारे  जीवन  को  सही  दिशा दें , निष्काम  कर्म  करें  जिससे  प्रकृति  प्रसन्न  होती  है ,  सत्कर्म  के  परिणामस्वरूप  जो  दुआएं  मिलती  हैं  उनसे  सभी  विध्न  बाधाएं  दूर  होने  लगती  हैं  ।  इसलिए  चिंता  करने  में  समय  व  स्वास्थ्य  नहीं  गंवाएं  और  निष्काम  कर्म  करते  हुए  कर्तव्य  पालन  करें  और  सकारात्मक  चिंतन  तथा  सकारात्मक  कार्य  करें ,  समस्याएं  स्वत: ही  हल  हो  जाएंगी  । 

No comments:

Post a comment