Tuesday, 24 February 2015

मन को शांत रखने का सबसे सरल उपाय----- चुप रहें--- मौन रहें

आज  के  समय  में  व्यक्ति  की  अशांति   का,  सिर  में  भारीपन,  ब्लडप्रेशर  का  मुख्य  कारण ----'  बहुत  बोलना ' है  ।  सुबह  जब  से  आँख  खुलती  है  तब  से  रात  तक  व्यक्ति  बोलता  ही  रहता  है  ।
कभी  परिवार  में,  फिर  दोस्तों  में,  फ़ोन  पर--- इस  तरह  की  बातचीत  में   सकारात्मक  कोई  कार्य  नहीं  होता, केवल  बोलने  से  अपनी  ऊर्जा  नष्ट  होती  है  ।   कार्यालयों  में,  कंपनी में  एक  ही  तरह  का  कार्य  करते  हुए  व्यक्ति  उस   कार्य  में  कुशल  हो  जाता  है,  जिसे  वह  बहुत  जल्दी  कर  लेता   है,  अत:  शेष  समय  व्यर्थ  की  गप-शप  में,  दूसरों  को  नीचा  दिखाने,  स्वयं  को  श्रेष्ठ  साबित  करने   में  बोल-बोल  कर व्यतीत  करता  है  । इसका  परिणाम  यह  होता  ही  कि  शाम    को  घर  पहुँचने   से  पहले  ही  सिरदर्द,  तनाव,  चिडचिडापन  आ  जाता  है   ।  एक  व्यक्ति  यदि  चुप  रहे  भी  तों  शेष  लोग  इतना  बोलते  हैं  कि  सिरदर्द  हो   जाता   है  ।
अब  आज के  समय  में  कहीं  पहाड़  पर,  किसी  एकांत  स्थान  पर  जाकर  मौन  रहना  संभव  नहीं  है  ।  हमें  सारी  साधनाएँ  इसी  संसार  मे  रहकर  करनी  हैं  ।   हम  अपने  परिवार  में,  दोस्तों  में    एक  दूसरे  को  कुछ  समय  मौन  रहने  के  लिये  प्रेरित  करें  । इस  बात  का  विशेष  ध्यान  रखें   कि  मौन  के  समय  मन  किन्ही  गलत  बातों में  न  भागे ,  मौन  की  अवधि  में   हम  उस  अज्ञात  शक्ति  से  मन  ही  मन  बात  कर  लें  ।
    यदि  विभिन्न  ऑफिस  मे,  कंपनी  मे  लंच  ब्रेक  के  साथ  10-15  मिनट  का   ' स्वास्थ्य  के  लिए  मौन '  हो  जाये  और  उस  अवधि  मे  सब  अपने-अपने  ईश्वर  से  मन-ही-मन  प्रार्थना  करें  तो  संसार  में  बहुत  शांति  हो  जाये  । 

No comments:

Post a comment