Friday, 20 February 2015

सुख-शांति से जीवन जीने का एक ही रास्ता----- सत्कर्म करें

व्यक्ति  सोचता  है  कि  बहुत  धन  इकट्ठा  कर  लें  तो  खूब  सुख  से  रहेंगे  लेकिन  ऐसा  होता  नहीं  है  ।  धन  की  गठरी  से   बड़ा  समस्याओं  का  ढेर  होता  है ,  जितने   बड़े  और  महंगे  अस्पताल  हैं  वे  सब  संपन्न  लोगों   से  ही  भरे  रहते हैं  ।  लोग  दवाइयों  पर , डॉक्टर  की  फीस  पर  लाखों  रुपया  खर्च  करते  हैं  लेकिन  अस्पताल  के  बाहर  बैठे  किसी  भूखे  को  दो  रूपये  का  बिस्किट  भी  खरीद  कर  नहीं  देते  हैँ  । आज  व्यक्तियों  का  पूरा  ध्यान  महंगा डॉक्टर,  महंगा इलाज  पर  ही  है,  यदि  इसी  से  सब  ठीक  हो  जाता  तो  बड़ी-बड़ी  बीमारियाँ  न  होतीं,  संपन्न  व्यक्ति  सब  स्वस्थ  होते  । यदि  हमें  स्वस्थ  रहना  है  तो  संसार  के  सबसे  बड़े  डॉक्टर--- ईश्वर  को,  प्रकृति  को  प्रसन्न  करना  है,  इसके  लिए  हमें  लाखों  रुपया  खर्च  करने  की  जरुरत  नहीं,  उन्हें  तो  हम  बिना  कुछ खर्च  किये   ही  प्रसन्न  कर  सकते  हैं---- अपने  भोजन में  से  एक-दो  कौर  तोड़कर   पशु- पक्षियों  को  दें,  उनके  पीने  के  लिए  पानी  रखें,  जो ब्रेड-बिस्किट   घर  मे  बच  जाते  है  उन्हें  गरीब  कों  दें  ।  ऐसे  बहुत  से  कार्य  हैं  जो  हम  बहुत  कम  खर्च  में  कर  के  अपने  लिये  अनमोल   दुआएं  इकट्ठी  कर  सकते  है  ।    प्रकृति  में  जैसा  आप   देते   हैं वैसा  ही  मिलता  है, किसी  कों  सुख   देंगे,  खुशियाँ  देंगे  तो  आपको   भी  खुशी  मिलेगी,  किसी  को  कष्ट  देंगे  तो  कष्ट  मिलेगा  ।
अपने  जीवन  को  सुखी  व  स्वस्थ  बनाना  हमारे  हाथ  मे  है---- अपने  जीवन  में  यह  प्रयोग  कर  के  देखिये,  सत्कर्म  करें,  नेक  रास्ते  पर  चलें  तब  प्रकृति  की  कृपा  का  अनुभव  आप  स्वयं  करेंगे  । 

No comments:

Post a Comment