Sunday, 22 February 2015

मन की शांति

जिसके  पास  जितना  अधिक  धन  है  वह  उतना  ही  अधिक  असंतुष्ट  और  परेशान  है  ।  व्यक्ति  ने  अब  धन  कमाने  का  शार्टकट  सीख  लिया  है  और  इसी  शार्टकट  को  वह  अपना  कर्तव्य  समझने  की  भूल  कर  रहा  है  ।   हम  देखते  हैं  कि  एक  मजदूर  दिनभर  मेहनत  करता  है,  पसीना  बहाता  है  और  रुखा-सूखा  खाकर  भी  स्वस्थ  रहता  है   लेकिन  जो  व्यक्ति  कम  समय  और  कम  मेहनत  में  बहुत  अधिक  कमाता  है  वही  सबसे  ज्यादा  अशांत  रहता  है  । इसका  कारण  है  कि   24 घंटे  में  से  कुछ  घंटे में  ही  शार्टकट  से   बहुत  कमा  लिया अत: शेष  बचे  घंटे  दोस्तों  में  गप-शप  करने,  धन  कमाने  के  और  नये  तरीके  खोजने  में,  अपना  ग्रुप  बढ़ाने  और  दूसरों  पर  अपना  रुतबा  जमाने  में  व्यतीत  करते   हैं  ।  कहते  हैं-' -खाली  मन  शैतान  का  घर  '  ।  ऐसे  व्यक्ति  स्वयं  अशांत  रहकर  समाज  में,  परिवार  में  अशांति  फैलाते  हैं  ।
     धन  कमाना  अच्छी  बात  है,  लेकिन  शांति  तभी  होगी  जब   धन  का  सदुपयोग  होगा  ।  धन  कमाने  के  अतिरिक्त  स्वयं    कुछ  नया  सीखने  में,  सकारात्मक  कार्य  मे,    और  समाज  के  हित  में    यदि  व्यक्ति  अपने  धन  का  कुछ  हिस्सा  व्यय   करे   तो  व्यक्ति   ठाठ-बाट  का  जीवन  भी  सुख-शांति से  जी  सकता  है   । 

No comments:

Post a comment