Wednesday, 6 September 2017

अशान्ति का कारण है ----- भय

   यह  भी  एक  आश्चर्य  है  कि  समाज  में  भयभीत  वे  लोग  होते  हैं   जिनके  पास  धन , पद - प्रतिष्ठा  सब  कुछ  होता  है   l  उन्हें  हर  वक्त  उसके  खोने  का  भय  सताता  रहता  है  l  रावण  के  पास  सोने   की   लंका   थी ,  शनि ,  राहु,  केतु  सब  उसके  वश  में  थे  लेकिन  वो  वनवासी  राम  से  भयभीत  था  l   ऐसे  ही  दुर्योधन  था ,  उसने  पांडवों  का  छल  से  राज्य  हड़प  लिया  , उन्हें  वनवास  दे  दिया   लेकिन  फिर  भी  वह  उनसे  भयभीत  था  ,  उन्हें  समाप्त  करने   की   नई- नई  चालें  चलता  था  l
  जब  तक  मनुष्य  में  अहंकार  का  दुर्गुण  है  ,  उसका  यह  भय  समाप्त  नहीं  होगा   l  जब  किसी  के  पास  थोड़ी  सी  भी  ताकत  आ  जाती  है  ,  चाहे  वह  किसी  छोटी  सी  संस्था   या  किसी  भी  छोटे - बड़े  क्षेत्र  में  हो  ,  यह  ताकत  उसे  अहंकारी  बना  देती  है   l  वह  चाहता  है  सब  उसके  हिसाब  से  चलें  l  अहंकारी  भीतर  से  बड़ा  कमजोर  होता  है  ,  उसे  हमेशा  अपनी  इस  ' ताकत '  के  खोने  का  भय  सताता  है  l  वह  नहीं  चाहता  कि  कोई  जागरूक  हो  जाये  ,  उसके  विरुद्ध  खड़ा  हो  l   अहंकारी  व्यक्ति  हमेशा  अपने  अहंकार   की   तुष्टि  का  प्रयास  करते  हैं  ,लेकिन  कभी  संतुष्ट  हो  नहीं  पाते  l  उनका  यह  अहंकार  स्वयं  उन्हें   भी   कचोटता  है   और समाज  में  अशांति  पैदा  करता  है  l 

No comments:

Post a comment