Sunday, 1 March 2015

मन को शांत रखना है तो स्वार्थ को छोड़ना होगा

आज  समाज   में   जितनी  भी   समस्याएं   हैं   चाहें   वह  पारिवारिक   हो , सामाजिक  या  राजनीतिक  हों , उनका  प्रमुख  कारण  यही  है  कि  आज  व्यक्ति  बहुत  स्वार्थी  हो  गया,    है   ।  प्रत्येक  व्यक्ति  केवल  अपना  सुख  चाहता  है  चाहे  वह  किसी  भी  कीमत  पर  मिले   ।  आज   लोगों  के  हृदय  में  संवेदना  नहीं  है   ।  अपने  हित  को  पूरा  करने  के  लिये  दूसरों  को , प्रकृति  को  कितना  भी  कष्ट  हो  जाये  उन्हें  कोई  फर्क  नहीं पड़ता ,  लेकिन  ऐसे   कार्यों  की  प्रतिक्रिया  अवश्य  होती  है   ।
हम  सब  एक  माला  के  मोती  है --- इस  सत्य  को  स्वीकार करना  होगा   ।  दूसरे  को  कष्ट  देकर  अपना  हित  पूरा  करने  से  कभी  शांति  नहीं  मिलती  ।  स्वार्थ व्यक्ति  को  अँधा  कर  देता है ,  स्वार्थी  व्यक्ति   में  विवेक  नहीं होता  इसलिए  उसके  निर्णय  गलत  हो  जाते  हैं   और  ये  गलत  निर्णय  ही  उसकी  अशांति  का कारण  होते  हैं      ।    हम  सब  ईश्वर  से  सद्बुद्धि   की  याचना करें ,  सद्बुद्धि   होगी  तभी  हम  समझ  सकेंगे   कि   हमारा   हित  किसमें   है   ।    

No comments:

Post a comment