Saturday, 11 July 2015

सुख-शान्ति से जीना है तो कभी किसी का एहसान न लें

आज  का  समय  इतना  कठिन  है  कि  अच्छे  और  बुरे  व्यक्ति  की  पहचान  कठिन  हो  गई  है  ।  इसलिए  बहुत  अधिक  सावधान  और  चौकन्ने  रहने   की  जरुरत  है  ।  कभी  किसी  परिचित  अथवा  अपरिचित  का  एक  तिनके  बराबर  भी  एहसान  न  ले  क्योंकि  यदि  वह  व्यक्ति  दुष्ट  प्रकृति  का  हुआ  तो  इस  एहसान  के  बदले  वह  आपका  और  आपके  परिवार  का  कितना    शोषण  कर  लेगा,  इसे  आप  समझ   ही   नहीं पाएँगे  ।   मनुष्य   बहुत   दम्भी  और  स्वार्थी  हो  गया  है , एक  छोटे  से  एहसान  का  बदला  सारी  जिंदगी  चुकाना  पड़ता  है  ।
हम  जीवन   को  इस  तरह  जियें  कि  हमें  किसी  के  एहसान  की  जरुरत  न  पड़े  ।  जितना  ईश्वर  ने  हमें  दिया  उसमे  खुश  रहें,  अपने  परिश्रम  व  अपने  ही  साधनों  से  आगे  बढ़ने  का  प्रयत्न  करें  ।  इस  तरह  जीने  का  आनंद  अनोखा  होता  है  |  हमारी  जो  उपलब्धि  होंगी,  वह  हमारी  ही  मेहनत  की  होंगी,  हम   सिर  उठाकर  जी  सकेंगे,  आमदनी  चाहे  कम  हो  लेकिन  घुटन  नहीं  होगी,  आत्मसम्मान  के  साथ  जिंदगी  जीने  से  पीढ़ी-दर-पीढ़ी  तरक्की  होती  है  । 

No comments:

Post a Comment