Wednesday, 22 July 2015

समस्याओं के प्रति अपनी सोच बदलकर ही मन की शान्ति संभव है

आज  के  समय  में  मनुष्य  अपने  जीवन  में  विभिन्न  समस्याओं  को  लेकर  बहुत  परेशान  है ,  इसी    कारण  से  तनाव  और  विभिन्न  बीमारियाँ  उत्पन्न  हों  जाती  है  
'ईर्ष्यालु  व्यक्ति '  न  केवल  आज  के  समय  की,  वरन  युगों-युगों  से  समाज  की  समस्या  रहे  हैं ,  ईर्ष्या  भी  एक  मानसिक  बीमारी  है  । ऐसे  लोग  ईर्ष्या-द्वेष   के  वशीभूत  होकर   षड्यंत्र  रचकर  दूसरों  को  परेशान  करते  हैं,   और  यह  कार्य  वह  सामने  नहीं  वरन  कायरतापूर्ण  ढ़ंग  से  छिपकर   करते   हैं  
  ऐसे  व्यक्तियों  से  दिन-प्रतिदिन  हमारा  सामना  होता  है  और  उनकी    निम्न  हरकतों  से  मन  परेशान  हो  जाता  है
       यदि  आप  इसी  तरह  परेशान  होते  रहे  तो  व्यक्तित्व  का  विकास  रुक  जायेगा,  कोई  भी  कार्य  सही  ढंग  से  न    कर  सकेंगे  ।,  ऐसे  लोगों  के  बीच  शान्त  रहने  के  लिए  हमें  अपनी  सोच  को  थोड़ा  सा  बदलना   है------     सर्वप्रथम  आप  अपने  मन  मे  इस  बात  कों  बैठा  लीजिये  कि  आपके  व्यक्तित्व  में  कुछ   खास  है,  आप  में  कुछ  ऐसे  गुण  हैं  जिन्हें  वे  लोग  पा  नहीं  सकते  इसलिए  तरह-तरह  से  षडयंत्र  कर  वे  आपको  नीचा  दिखाने   की  कोशिश  कर    रहें  हैं  ।   इन   लोगों  की  तुच्छ  हरकतों  पर  ध्यान  ना  दें,  शायद  आपके  व्यक्तित्व  को  प्रखर  बनाने  के  लिए  ही  ईश्वर  ने  उन्हें  रचा  हो   ।
      ऐसा  सब  सोचते  हुए,  अपने  मन  को  शान्त  रखते  हुए  आप   अपने  व्यक्तित्व  का  अभिमान  न  करें,  यह  ईश्वर  की  देन  है   ।   ईर्ष्यालु  व्यक्तियों  से  हमेशा  सावधान  रहे  क्योंकि  ऐसे  लोग  किसी  भी  सीमा  तक  नीचे  गिर  सकते  हैं  ।
कायर  व  ईर्ष्यालु  व्यक्ति    समाज  का   सबसे  बड़ा  कलंक  और  समाज  में  अशांति  का  कारण  है  ।
हम   चाहे  जिस  क्षेत्र  में  हों  अपना  कर्तव्य  पालन  करें  और  निरंतर  सत्कर्म  करते  हुए  प्रकृति  को  प्रसन्न  करें  ।  जिस  पर  ईश्वर  की  कृपा  हो,   संसार  की  कोई  ताकत  उसका  कुछ  नहीं  बिगाड़  सकती  । 

No comments:

Post a Comment