Monday, 13 July 2015

मनुष्य की अशान्ति का सबसे बड़ा कारण उसकी दुर्बुद्धि है

आज  मनुष्य  की  बुद्धि,   दुर्बुद्धि  में  बदल  गई  है  ।  वह  अपने  ही  हाथों  अपना,  अपने  परिवार,  अपनी  जाति  का  विनाश  कर  रहा  और  इस  सच  का  उसे  एहसास  भी  नहीं  है  ।  दुर्बुद्धि  का  यह  प्रकोप  सबसे  ज्यादा  धन-संपन्न  और  बुद्धिजीवी   वर्ग   पर  है  ।
जैसे--- कन्या-भ्रूण-हत्या  की  समस्या  कों  लें------ तो  यह  कार्य  गरीब,  निर्धन   और  अशिक्षित  तथा  कम  पढ़े-लिखे  लोग  नहीं  करते  ।   यह  कार्य  बुद्धिजीवी  वर्ग  के  लोग  और  प्रतिमाह  पर्याप्त  धन  कमाने  वाले  लोग  ही  करते  हैं  ।  कैसी  दुर्बुद्धि  है---- मनुष्य  अपने  ही  हाथों    किसी     अन्य   जाति  की  नहीं,   अपनी  ही  जाति,  अपने  ही  धर्म  और  अपने  ही  अंश  को  बेरहमी  से  मार  डालता  है  ।  और  ऐसा  करके  खुश  होता  है  कि   अच्छा  काम  हुआ,  अब  दहेज  बचेगा  ।  फिर  सोचता  है  कि  पुत्र  होगा  तो  सुख  से  जिंदगी  कटेगी  ।  किन्तु  अत्याधिक  धन  कमाने  के  लालच  में  लोग  अपने   पुत्र   के  जीवन  को  भी  सही  दिशा  नहीं  दे  पाते,  उसकी  भावनाओं  को,  उसकी  रूचि  को  नहीं  समझ  पाते  ।   परिवार  से  भावनात्मक  लगाव  न  होने  के  कारण  ही  आज  की  युवा  पीढ़ी   सिगरेट,  शराब,  तम्बाकू  आदि  नशे  की  शिकार  है  ।
   जिसके  पैर  नशे  मे  लड़खड़ाते  हों,  जो  स्वयं  गलत  आदतों  का  शिकार  हो  वह  अपने  माता-पिता  को  क्या  सुख  देगा  ?
लेकिन  यह  एक  चिंतन  का  प्रश्न  है  कि  इस  स्थिति  के  लिए  कौन  जिम्मेदार  है  ?   जब  माता-पिता  के  स्वयं  के  जीवन  का  कोई  आदर्श  नहीं,  कोई  मूल्य  नहीं,  विभिन्न  हथकंडों  से  धन  कमाना  ही  जीवन  का  लक्ष्य  हो  तो  केवल  धन  रहता  है   शेष  सब----- सब  छूट  जाता  है  ।   

No comments:

Post a comment