Friday, 17 July 2015

अशान्त लोगों के बीच कैसे शान्त रहें

अधिकांश  समस्याएं  जो  व्यक्ति  को  अशान्त  करती  हैं  वे   उसके  पारिवारिक  जीवन   और  उसके  कार्यस्थल  से  संबंधित  होती  है  ।   और  इन   समस्याओं  का  सबसे  बड़ा  कारण  परस्पर  ईर्ष्या-द्वेष  है  । ईर्ष्या-द्वेष  के कारण  ही  परिवरों में  सम्पति  और  धन  संबंधी  विवाद  उत्पन्न  होते  हैं  और  ईर्ष्या    के  कारण  ही  कार्यस्थल  पर  व्यक्ति   दूसरों  को  परेशान  करता  है  ।
   हम  स्वयं  का  तो  सुधार  कर  सकते  हैं  लेकिन    ईर्ष्या  करने  वालों  के  कुचक्रों  ,  षड्यंत्रों  के  बीच  कैसे  शान्त  रहें,  यह  एक  बड़ी  समस्या  है  |
हम  एक  बात  स्मरण  रखें  कि  ईर्ष्यालु  व्यक्ति  अपना  सारा  समय  ईर्ष्या  में  गंवाता  है,  योग्यता  को  नहीं  बढाता  अत:   उसका  व्यवहार  कायरतापूर्ण  होता  है,  वह  स्वयं  सामने  नहीं  आता,  दूसरों   के   माध्यम  से  षड़यंत्रन   रचता  है   । इनके  बीच  शान्त  रहने  का  एक  ही  तरीका  है  कि  इनकी  ओर  ध्यान  न  दें  और  अपनी  योग्यता  बढ़ाने  के  सकारात्मक  कार्यों  में  व्यस्त  रहें  ।
  इसके  साथ  यह  भी  बहुत  जरुरी  है  कि  उसके  षड्यंत्रों  को  विफल  करने  के  लिए  हम   अपने  विवेक  को  जाग्रत  रखें   ।   यदि  हमारी  सोच  सकारात्मक  है    तो   उनकी  हर  ओछी  हरकत  हमारे  व्यक्तित्व  को  और  प्रखर  बना  देगी  और  ऐसे  ईर्ष्यालु  लोग  हर  कदम  पर  हारेंगे  । 

1 comment: