Thursday, 9 July 2015

जीवन जीना एक कला है

जिसे   जीवन  जीना   आ   जाता  है  वह   अच्छी-बुरी  सब  परिस्थितियों  में,  अमीरी  हो  या  गरीबी  हर  हाल  में  खुश  और  स्वस्थ  रहता  है  ।  आज  के  युग  की  सबसे  बड़ी  जरुरत  है  कि  हमें  जीवन  जीना  आ  जाये                यदि  हम  गरीब  परिवार  में  हैं  तो  कभी  अपनी  गरीबी  पर  दुःखी  न  हों  ,   सबसे  जरुरी  ये  है  कि  किसी  की  अमीरी  से  प्रभावित  न  हों,  अपने  मन  में  हीन  भावना  न  आने  दें  ।
एक  बात  का  विशेष  ध्यान  रखें  कि  कभी  किसी  से  कोई  सहायता,  सुविधा  न  मांगे,  स्वाभिमान   से  रहें  ।  जब  कोई  व्यक्ति  किसी  से  सहायता  मांगता  है  तो  सहायता  देने   वाले  के  अहंकार  को पोषण  मिलता  है  और  दूसरे  को     कमजोर    समझ  शोषण  करने  का  मौका   भी    मिलता  है  ।
        अमीरों   से   संबंधित  कोई  चर्चा  परिवार  में   कर  अपनी   ऊर्जा   बरबाद   न  करें,   हमारे   पास  केवल  एक  ही  जीवन   है,  अपने  ही  साधनों  से  आगे  बढ़ने  में  अपनी  सारी  ऊर्जा  लगा  दें  ।
   सबसे  जरुरी  है  कि  हम  आलसी  न  बने,  कर्मठ  बने  । अपने  अध्ययन  के  साथ  परिश्रम  करके    कुछ  आय  अवश्य  अर्जित  करें  ।  ऐसे  अनेकों  उदाहरण  हैं    जो  यह  बताते  हैं  कि   मेहनत  और  परिश्रम  से  सही  दिशा  में  कार्य  करने  से  सफलता  अवश्य  मिलती    है,  एक  छोटी  सी  टोकरी  में  सामान  बेचने  वाला  एक  दिन  बड़े  शो-रूम  का  मालिक  बन  जाता  है  । 

No comments:

Post a comment