Saturday, 25 July 2015

मनुष्य की अशान्ति का एक कारण उसका------ मोटापा भी है

संसार  में  अनेकों  समस्याएं  हैं,  कभी-कभी  अपना  शरीर  भी  एक  समस्या  बन  जाता  है  ।   विभिन्न  कारणों  से  व्यक्ति   बहुत  मोटा  हो  जाता  है,  ऐसी  चरबी  चढ़  जाने  से  अनेक  समस्याएं  जन्म  लेती  हैं  ।
      यदि  छोटी-छोटी  बातों  का  ध्यान  रखें  तो  शरीर  में  हल्कापन  रहेगा------
जब  भी  बैठें  तो  हमेशा  रीढ़  की  हड्डी  सीधी  रखकर  बैठें,   आरामदायक  स्थिति  में   कभी   न  बैठें ,  जब  भी  याद  आ  जाये  गहरी  सांस  अवश्य  लें
आज  के  समय  में  जीवन  शैली  ऐसी  है  कि  चलना-फिरना  बहुत  कम  होता  है,  ऑफिस  में  दिनभर  बैठ  कर  काम  करना  होता  है------ इसलिए  अपना  पीने  का  पानी,  बाटल  कुछ  दूरी  पर  रखें,  जब  भी  पानी  पीना  हो  उठकर  जायें  ।
यदि  आप  सिगरेट  पीते  हैं  तो  लाइटर  कभी  जेब  में  न  रखें,  दूर  रखी  किसी  अलमारी  में  बंद  कर  के  रखें  ।  इससे  दोगुना  लाभ  होगा--- लाइटर  लेने  के  लिये  आपका  कुछ  पैदल  चलना  हो  जायेगा  और  कभी  उठने  में  आलस  महसूस  होगा  तो  इस  बहाने  सिगरेट  पीना  कम  हो  जायेगा  ।
सुबह-शाम  जब  कभी    पैदल   सैर  को  जायें  तो  उस  समय  कभी  सिगरेट  न  पियें ,  और  अपना  मुँह  बंद  रखें,  सैर  के  समय  कभी  बात  न  करें,  मन  ही  मन   अपने    भगवान  का  नाम  और  अपने  धर्मग्रन्थ  के  सद्वाक्य  को  स्मरण  करें  ।
  ऐसी  वस्तुएं  जिनकी  आपको  बार-बार  जरुरत  होती  है  उनको  जमीन  पर  इस  तरह  रखें  कि  उन्हें  उठाने  रखने  के  लिए  आपको  बार-बार  झुकना  पड़े  । घर  का  फर्श  साफ  हो  तब  भी  जमीन  पर  झुककर  पांच-दस  मिनट  पोछा  लगायें  ।
हमारे  आचार्य,  ऋषियों  का  मत  है  कि  यदि  आप     श्रद्धा  और  विश्वास  के  साथ  गायत्री  मंत्र  का  जप  करते  हुए   गायत्री  माँ  का  अथवा  उगते  हुए  सूर्य  का  ध्यान  करें  तो  इससे  शरीर  में  हल्कापन  आता  है,  ध्यान  एक  चिकित्सा  पद्धति  है  । इसकी  सफलता  के  लिए  निष्काम  कर्म  करना  और  सन्मार्ग  पर  चलना  अनिवार्य  है  । 

No comments:

Post a comment