Wednesday, 29 July 2015

सुख-शान्ति से जीने के लिए स्वयं में सुधार करें

मनुष्यों  की  यह  आदत  होती  है  कि  अपनी  प्रत्येक  परेशानी  व  दुःख  के  लिए  दूसरों  को  दोष  देते  हैं  । परिस्थितियों  को  और  लोगों  को  हम  नहीं  बदल  सकते  । हम  अपने  जीवन  को  सही  ढंग  से,  सही  दिशा  में  व्यतीत  करें,  यही  बहुत  है  ।
धन-सम्पदा,  सुख-सुविधाएं  बहुत  हैं  लेकिन  आदतें  अच्छी  नहीं  है  तो  जीवन  में  शान्ति  नहीं  है,  व्यक्ति  अपनी  ही  आदतों  से  परेशान  रहता  है  ।  इच्छाएं  कभी  तृप्त  नहीं  होती,  उन्हे  रोकना,  उन  पर  नियन्त्रण  करना  न   तो  उचित  है  और  न  संभव  है  ।  बस !    हमें  यह  एहसास  होना  चाहिए  कि  हमारी  अमुक  आदत  गलत  है,  इससे  हमारी  सेहत  को  नुकसान  हों  रहा  है  ।
 ऐसी  गलत  आदतों  की  पूर्ति  में  स्वयं  छोटी-छोटी  बाधाएं  उत्पन्न  कर  दें  जैसे---- सिगरेट  पीना  है -- तो  हमेशा  अपने  पैसे  से  खरीदी  हुई,  अपने  ही  लाइटर  से  जलाकर  पियें  ।   शराब  पीनी  है--- तो  कभी  किसी  की  दी  हुई  न  लें,  अपनी  जेब  में  पैसा  हो  तभी  खरीद  कर  पियें  । सप्ताह  में  आपके  ईश्वर   का   जो  पवित्र  दिन  हो ,  उस   दिन  इन  गलत  आदतों  से  दूर  रहें  ।
ऐसा  करने  से  धीर-धीरे  आदतों  में  सुधार  होगा  ।  सामान्यत: एक  व्यक्ति  जब  गलत  आदतों  का  शिकार  हो  जाता  है  तो  वह  दूसरों  को  भी   ऐसा   करने  के  लिए  प्रेरित  करता  है  और  अपना  पैसा  खर्च  करके  मित्रों  को  शराब  पिलाता  है,  गलत  राह  दिखाता  है  । पतन  तो  इसी  तरह  होता  है,  व्यक्ति  सीढ़ी-दर-सीढ़ी  नीचे  गिरता  जाता  है  । व्यापारी  वर्ग  भी  लाभ  कमाने  के  लिए  आरंभ  में  ये  सब   उधार  दे  देते  हैं
         इसलिए  यदि  आप  ने   अपने  जीवन  में  कुछ  सिद्धांत  बना  लिए  हैं,  तो  फिर  आप  इन  आदतों   के  गुलाम  नहीं  होंगे  ।  अपने  बजट  के  अनुसार  इन  आदतों  को  भी  दवा  की  तरह  इस्तेमाल  करेंगे  ।
      गायत्री-मंत्र  में  चमत्कारिक  शक्ति  है,   यदि  आप  नियमित  गायत्री  मंत्र  का  जप  करते  हैं  तो  आपको  स्वयं  ही  इन   गलत  आदतों  से  दूर  रहने  का  मन  करेगा,  आप   स्वयं   ईश्वर  से  प्रार्थना  करने  लगेंगे  कि  वे  आपको  शक्ति  दें  ,  सद्बुद्धि  दें,  इन  बुराइयों  की  गहरी  खाई  में  डूबने  से   आपकी   रक्षा  करें  । 

No comments:

Post a Comment