Saturday, 4 July 2015

अशान्ति का कारण व्यक्ति का दोहरा व्यक्तित्व है

कहते  हैं--- वीरता  पुरुष  का  आभूषण  है,  लेकिन  धन  के  लालच  में  लोगो   ने  इस  आभूषण  को  उतार  फेंका  ।  अब  लोग  अपने  चेहरे  पर  शराफत  का  मुखौटा  लगाकर  रहते   हैं,  समाज  में  यह  दिखाना  चाहते   हैं  कि  वे   कितने  ईमानदार,  नेक  व  चरित्रवान  हैं  और  अपने  दूसरे  रूप  में  वे  भ्रष्ट  तरीके  से  धन  कमाना  और  विभिन्न  गलत  कार्यों  में  लिप्त  रहते  हैं  ।   ऐसे  व्यक्ति  सबसे  ज्यादा  अशांत  रहते   हैं,  उन्हें  हमेशा  डर  बना   रहता  है  कि  कहीं  उनकी  असलियत  लोगों  के   सामने   न  आ  जाये  ।   उनका  अधिकांश  समय  गलत  कार्य  करना  और  फिर  उसको  छिपाने  के  प्रयास  में  ही  बीत   जाता  है  ।
  कितना  भी  छुपाओ,   सच्चाई    छुपती  नहीं  ।  समाज  में  लोग  डर  से,  लालचवश  उसे  कुछ  सम्मान  दे  दें,   लेकिन  चरित्र  अच्छा  न  होने  से  ऐसे  व्यक्ति  को  चाहे  वह  कितना  भी  बड़ा  अधिकारी  क्यों  न  हो  परिवार  में  भी  सम्मान  नहीं  मिलता  ।   धन  का  लालच  और  स्वार्थवश  बहुत  मित्र  व  रिश्तेदार   भी  होते  है  लेकिन   मुसीबत  आने  पर  कोई  साथ  नहीं  देता    ।
आज  समाज  में  ऐसे  लोगों  का  बहुमत  है  जो  दूसरों  की  गलतियों  को  उजागर  करने  की  धमकी  देकर  उन्हें  इस्तेमाल  करते  हैं  ।
इसलिए  उचित   यही  है  कि  जब  भी   समझ   आ  जाये  हम  इस   मुखौटे  को  हटा  दें,  जैसे  हैं  वैसे  दिखे,  इससे  बुरी  आदते  धीरे-धीरे  दूर  होंगी  और  मन  शांत  रहेगा  । 

No comments:

Post a comment