Sunday, 11 October 2015

शान्ति से जीने के लिए विवेक जरुरी है

जब  देश  आजाद   नहीं  था  तब   अत्याचार, अन्याय ,  शोषण  के  लिए  विदेशी  शासन  को  दोष  दिया  जाता  था  लेकिन  अब  तो  देश  आजाद  है    फिर भी   अपराध ,  अत्याचार  , अन्याय  कम  नहीं  हुआ   ।  इसका  कारण  है --- मनुष्य  के  विकार ,  उसकी   समस्याएं ,  नैतिकता  का  अभाव  ।  आज  देश  को  जरुरत  है  ऐसे  समाज  सुधारकों  की   जो  समाज  में फैली  कुरीतियों  को  दूर  कर    जन - मानस  के  मानसिक  स्तर  को  ऊँचा  उठाये   ।  ऐसे   आत्मविश्वासी    और  साहसी  लोगों   की  देश  को  जरुरत  है   जो  अत्याचार , अन्याय  के  विरुद्ध  खड़े  हो  सकें  ।  ऐसे  कर्तव्य निष्ठ  सुरक्षाकर्मी  हों   कि  कोई  अपराध  करने  का   साहस  न  कर  सके
भौतिक  प्रगति  के  साथ   लोगो में     मानवीय  मूल्यों  का  विकास  हो ,  चेतना  का  स्तर  ऊँचा  हो  तभी  कोई  देश   अग्रणी  बन  सकता  है  । 

No comments:

Post a Comment