Thursday, 15 October 2015

किसी को बलपूर्वक सद्गुणी नहीं बनाया जा सकता

सन्मार्ग  पर  चलने  के  लिए  ,  सद्गुणों  को  जीवन  में  अपनाने  के  लिए   केवल  विभिन्न  तर्कों  द्वारा  समझाया  जा  सकता  है ,  किसी  को  विवश  नहीं  किया   जा  सकता  |   इसी  तरह  व्यक्ति   जानता  है  कि  किन  गलत  आदतों  से  उसे   हानि  है  फिर  भी  वह  उन्हें  छोड़  नहीं   पाता  है    ।  प्रत्येक  व्यक्ति  अपने  मन  के  आगे  विवश  है  ।   लेकिन  फिर  भी  कोई  तर्क  व्यक्ति   को  समझ  में  आ  जाये  तो  बुराइयों  को  छोड़ना  संभव  है  और  जब   बुराई  छूटेगी   तो  उसका  स्थान  अच्छाई  लेगी   ।
 जैसे --   जो  व्यक्ति  मांसाहार  करते  हैं  उन्हें  कितने   भी  तर्क  दो   मानेंगे  नहीं  ,  लेकिन  जीवन  में  इसे  छोड़ने  का  एक   प्रयोग   करके  देखना   चाहिए   ।  आप  एक  महीने के  लिए  मांसाहार  छोड़  दें  और   निष्काम  कर्म  नियमित  रूप से  अवश्य  करें । इस  छोटी  सी   अवधि  में  ही  आप  अपने  विचारों  में ,  जीवन  में  सकारात्मक  परिवर्तन  अवश्य  देखेंगे   ।  

No comments:

Post a Comment