Tuesday, 20 October 2015

अशांति का एक कारण पारिवारिक विघटन है

संयुक्त  परिवार  प्रणाली  भारतीय  समाज  की  एक  विशेषता  है   किन्तु  अब  ये  परिवार  टूटते  जा  रहें  हैं  ।
  इसके  अनेक  कारण  हैं   लेकिन  एक  बड़ा  कारण  है  ----    चरित्रहीनता  ।   चाहे  भ्रष्टाचार  हो  या  और  कोई  अपराध   !   यह  अपराध  उन्हीं  परिवारों  से  होते  हैं  जिनसे  मिलकर  यह  समाज  बना   है  ।   और  यह  अपराध  करने  वाले  किसी  के  पिता   पुत्र  या  भाई    होते  हैं  ।   व्यक्ति  जितना  समय  अपने  परिवार  में  व्यतीत  करता  है  ,  वह  स्वयं  को  कितना  भी  अच्छा   सिद्ध  करने  की  कोशिश  करे   ,  सब  सदस्य  एक   दूसरे  की  सच्चाई  अच्छी  तरह  जानते  हैं   ।   यह  अपराध - बोध  उन्हें  एक  दूसरे  से  दूर  कर  देता
 है  ।
पहले  परिवारों  में  त्याग  की  भावना   थी ,   माता  पिता  अपने  सुखों  को  त्याग  कर  बच्चों  की  परवरिश  करते  थे  ,  इसलिए  बच्चे  भी  उनसे  भावनात्मक  रूप  से  जुड़े  रहते  थे    ।   लेकिन  अब  माता  पिता  अपनी  सुख  सुविधा  पहले  देखते  हैं  ,  केवल  धन  कमाने  पर  ध्यान  है ,  बच्चों  को  जीवन  की  सही  दिशा  नहीं  देते    हैं   ।  इसी  की  प्रतिक्रिया  है  कि    ऐसे  माता  पिता  भी  उपेक्षित  हो  जाते  हैं  । 

No comments:

Post a comment