Thursday, 8 October 2015

सुख और दुःख के पीछे छिपे कारण का एहसास जरुरी है

आज   व्यक्ति  अपने   दैनिक  जीवन  में  इतनी   गलतियां   करता   है   कि  वे  इकठ्ठा   होकर पाप का पहाड़   बन  जाती   हैं   जैसे --- झूठ  बोलना , किसी  का  अहित  करना ,   ईर्ष्या  के   कारण  दूसरों के   विरुद्ध  षड्यंत्र  रचना ,  अपने कार्य -व्यवसाय  में  बेईमानी   करना , किसी   का   धन   हड़पना ,  हिंसा  आदि  अनेक  ऐसी  गलतियाँ  हैं  जो  व्यक्ति  अपने  जीवन  में  करता  है  ।  ऐसे  लोगों  के  जीवन  में  जब  कोई  बड़ी  बीमारी  या  विपदा  आती  है  तो  भी  वे    बदलते  नहीं  ।     लोग  इस  सत्य  को  समझना  नहीं   चाहते  कि   उनके  कष्टों  का  कारण  उन्ही  के   कर्म  हैं  ।
ऐसे   व्यक्ति  ही  परिवार  में,  समाज  में  अशान्ति  पैदा  करते  हैं  ।  आज  ऐसे  ही  लोगों  की  अधिकता  है,  अशांति  पैदा   करना ,  दूसरों  को  परेशान  करना  ही  उनका  स्वभाव  है  ।
     जिनके  जीवन   में   सुख   है   उन्हें   यह   समझना   चाहिए   कि  उनने   कोई  पुण्य   किये  होंगे  इसीलिए  यह  सुख   है  ।  सुख  का  भण्डार  खत्म  होने    में  देर  नहीं  लगती ।  अत: सुख  के  समय  में   अहंकार  न करें  और  नियमित  निष्काम  कर्म करें,   ताकि  यह  भण्डार  भरा  रहे   ।  इससे  उन्हें  भी  लाभ   होगा ,  मन  को  शान्ति  मिलेगी   और  समाज  में  सकारात्मकता   बढ़ेगी  । 

No comments:

Post a comment