Friday, 2 October 2015

धरती पर शान्ति चाहिए तो अब मनुष्य को शाकाहारी बनना होगा

सभी  धर्मों  में  मांसाहार   का  निषेध   है   ।   सभी  धर्मों  के  श्रेष्ठ  गुरुओं  ने  जीव-हत्या  को  पाप  कहा  है  और  सख्ती  से  मांस  खाने  को  मना  किया  है  ।    इसकी  वजह  यही  है  कि  मांस  खाने  से  व्यक्ति  निर्दयी  हो  जाता  है  और  पशुवत  व्यवहार  करने  लगता  है  ।
मनुष्य   पर  दुर्बुद्धि  का  प्रकोप  है  इसलिए  सब  कुछ   सामने  देखते  हुए  भी  वह  समझता  नहीं  है  ।
  विश्व  का  इतिहास  युद्धों  से   भरा  पड़ा  है  ।    दो  विश्व  युद्ध  में  कितने  लोग  मारे  गये,  भारत-पाकिस्तान  विभाजन  में  कितना  कत्लेआम  हुआ,    कारण  कुछ  भी   हो,  लेकिन  मूल  कारण  मनुष्य  की  निर्दयता  है,  संवेदना   समाप्त  होने   से  ही  मनुष्य   पशुवत  व्यवहार  करता  है  ।
 शेर-चीता  आदि  मांसाहारी    जानवर  मांस   खा  कर  ही  इतने  क्रूर   हैं  कि  उनके  पास  जाने  से  सबको  डर  लगता  है  ।
लेकिन  जो   पशु-पक्षी  शाकाहारी  हैं,  उनसे  किसी  को  डर  नहीं  लगता  ।   यही  बात  मनुष्यों   के  साथ  है,  मांसाहार  करने  वाला  क्रोधी   स्वभाव  का   होता  है,  वह  कब  हिंसक  हो  जाये  कोई  नहीं  जानता  ।
लेकिन  शाकाहारी  व्यक्ति  शांत  प्रवृति  का  होता  है,  वह  कभी  किसी  की  हत्या  नहीं   करेगा,  किसी  का  अहित  नहीं  करेगा  ।
 दुर्भाग्य  यही  है  कि  ऐसे  शाकाहारी  बहुत  कम  हैं  ।
 मांसाहार  का  संबंध  किसी  धर्म  या  जाति  से  नहीं  होता  ।   जिसके  ह्रदय  में  दया  नहीं,  संवेदना  नहीं,  वही  मांसाहार  करता  है  । बहुत से  लोग  स्वयं   को  श्रेष्ठ    समझते  हैं  और  अपने  को  शाकाहारी  कहते  हैं  लेकिन  धन  के  लालच  में  अपनी  गाय  कसाई  को  दे  देते  हैं  ।  ऐसे  व्यक्ति  भी  मांसाहारी  ही   हैं  ।
 धरती  पर  शान्ति  चाहिए  तो  हमें  इनसान  बनना  होगा,  अपने  ह्रदय  में  दया,  करुणा,  संवेदना  को  जगाना  होगा  । 

No comments:

Post a comment