Sunday, 18 October 2015

कर्तव्य पालन और ईमानदारी के बिना शान्ति संभव नहीं है

    अनेक  सद्गुण  हैं  ,  उनमे  से  यदि  इन  दो  सद्गुणों ----- 1.कर्तव्यपालन ,  2.ईमानदारी  --- का  पालन  करना  प्रत्येक  के  लिए  अनिवार्य  कर  दिया  जाये   तो  देश  की  90  प्रतिशत  समस्याएं  आसानी  से  हल  हो  जायें   ।   इन  दो  सद्गुणों  के  अभाव  के  कारण  ही  भ्रष्टाचार ,  जमाखोरी ,  दंगे ,  विभिन्न  कार्यालयों  में  उत्पीड़न,  अपराध  बढ़  गये  हैं  
  कर्तव्यपालन   न  करने  से ,  अपने  कार्य  के  प्रति  ईमानदार  न  होने  से  व्यक्ति     प्रकृति  का  ऋणी  हो  जाता  है  और  यह  हिसाब  उसे  अपने  जीवन  तथा  अपने  परिवार  के  सदस्यों  के  जीवन  में   आईं  विभिन्न  मुसीबतों ,  आपदाओं  के  रूप  में  चुकाना  पड़ता  है  ।
          बेईमानी  और  अनीति  से  कमाया  धन  कभी  भी   फलता  नहीं  है  ।  
किसी  को  ईमानदार  बनने  के  लिए  विवश  नहीं  किया  जा  सकता ,  यह  तो  विचारों  में  परिवर्तन  से  ही  संभव  है  ।     भ्रष्टाचार  और  अनीति  से  धन  कमाने  वालों  को   अपने  जीवन  में  झाँक  कर  देखना  चाहिए    कि   ऐसे  धन  से  क्या  दुनिया  के  सारे  सुख  व  शान्ति  उनके  पास  है  ?
 आज  ऐसे  चिकित्सक  की  भी  जरुरत  है   जो   बड़ी - बड़ी  बीमारियों  से  ग्रस्त  लोगों  को   अपनी  दवाएं  लेने ,  योग आसन  आदि  करने  के  साथ  सन्मार्ग  पर  चलना ,  ईमानदारी  से  कर्तव्यपालन  करना  अनिवार्य  कर  दें  ।
क्योंकि  सन्मार्ग  पर  चले  बिना   चाहे   प्रारंभ  में  महँगी  चिकित्सा ,  योग  आदि  से   व्यक्ति  स्वस्थ  हो  जाये    लेकिन  व्यक्ति  के  दुर्गुणों  के  कारण    उसके  जीवन  में  एक  न  एक  समस्या  बनी  रहेगी   ।
     शरीर  के  साथ  मन  का  इलाज  बहुत  जरुरी   है ,   अपने  बच्चों  को  विरासत  में  धन  के  भण्डार  के  साथ   अपनी  बीमारियाँ ,  अपनी  बुराइयाँ  न  दें  ।
' जब  जागो  तब  सवेरा  है '    जो  बीत  गया   उसे  बदल  नहीं  सकते  लेकिन  एक  नई  जिंदगी  की  शुरुआत   तो  कर  सकते  हैं  | 

No comments:

Post a comment