Monday, 5 October 2015

शांति से जीने के लिए आत्म-अवलोकन जरुरी है

आज  के  समय  में  धन  और  साधन-सुविधाओं  के  आधार  पर  किसी  को  सभ्य  व  आधुनिक  माना  जाता   है   ।  आज  व्यक्ति  को  स्वयं  के  व्यवहार   और  कार्यों  का  अवलोकन  करना  चाहिए  और  हमें  स्वयं  ही   सत्य  को  समझना  है----  विकसित  व  सभ्य  तो  तब   होंगे  जब  समाज  में  शान्ति  होगी   ।
यदि  समाज  में  हत्या,  लूटपाट,  अपहरण  व   अन्य   पाशविक  अपराध   हो  रहे  हैं  तो  यह  सभ्य  समाज  का  लक्षण  नहीं  है  ।
यह  तो   सब  आदिम-युग  में  भी  था,  जब  साधन-सुविधाएँ   नहीं  थीं,  मनुष्य  रक्त-मिश्रित  मांस  खाता  था,  मदिरा  पीकर  शोर   कर  झूमता  था  ।
पढने-लिखने  के  बाद,  वैज्ञानिक  प्रगति  के  बाद  भी  मनुष्य  का  मन  नहीं  बदला,  अधिकांश  आदतों  में  आज  भी  वह   आदिमानव  है  ।
विचारों  और  कार्य-व्यवहार  का  स्तर  सुधारकर  ही  शान्ति  संभव  है   ।
  

No comments:

Post a comment