Thursday, 3 March 2016

भावनाओं की पवित्रता आवश्यक है

कार्य  के  प्रति  जैसी  मनुष्य  की  भावना  होगी  वैसा  ही  परिणाम  सामने  आएगा  जैसे  आज  शिक्षा  प्राप्त  करने  का    उद्देश्य  है  --- पढ़ - लिख  कर  खूब  पैसे  कमायें   ।  ऐसी  सोच  होने  से  व्यक्ति  चाहे  जिस  पद  पर  होगा   , अनैतिक  ढंग  से  पैसे  कमाएगा  ।  डॉक्टर हो ,  इंजीनियर  हो  ,  नेता , शिक्षक  जो  भी  होगा  उसका  उद्देश्य  केवल  धन  कमाना  होगा  ,  न  ही  वह  अपना  व्यक्तित्व  बनाएगा  और  न  ही  लोक - कल्याण  का  कोई  काम  करेगा   ।  यही  स्थिति  आज  हमें  समाज  में  देखने  को  मिलती  है  ।  लोग  उच्च  पदों  पर  हैं ,  बहुत  धन  कमा  रहें  हैं  ,  सारी  सुख - सुविधाएँ  हैं  लेकिन  नशा ,  अनैतिकता ,  अपराध  उनके  जीवन  का  अंग  बन   चुका  है  ,  अब  वे  इससे  बाहर  ही  नहीं  निकलना  चाहते  ।
  समाज  सेवा  की  भी  अनेक  संस्थाएं  हैं  ,  लेकिन  यदि  उद्देश्य  धन  कमाना  और  यश  प्राप्त  करना  है    तो  उसमे  सेवा  कम ,  समाज  को  बेवकूफ  बनाना  ज्यादा  होता  है   ।
        ऐसे  वातावरण  का  सबसे  ज्यादा  असर  बच्चों  पर  होता  है   ।  कोई  सही  दिशा  देने  वाला  न  हो  तो  मनोरंजन  के  साधन  भी  बच्चों  के  कोमल  मन  को  गलत  राह  पर  धकेल  देते  हैं  ।
       प्रश्न  ये  है  कि  आखिर  सुधार  कैसे  हो  ?  कमजोर  को  तो  दंड  मिल  ही  जाता  है    लेकिन  जिनके   पास   पैसा  है  ,  शक्ति  है  वे  दंड  से  बच  जाते  हैं  ।
 जो  बड़ी  उम्र  के  हैं  ,  वे  तो  पक्के  हो  गये  ,  अब  सुधरना  ही  नहीं  चाहते  ।
एक  रास्ता  है ----  जो  लोग  वास्तव  में  समाज  में  शान्ति  चाहते  हैं ,  समाज  में  सुधार  चाहते  हैं    वे  छुट्टी  के  दिनों  में  जैसे  रविवार  को    विशेष  स्कूल  चलाकर  बच्चों  को  नैतिकता ,  सदाचार ,  सेवा ,  स्वच्छता ,  ईमानदारी  ,  कर्तव्यपालन  ,  सामाजिक  बुराइयों  के  प्रति  जागरूकता  आदि  की  शिक्षा  दें   ।
बच्चों  का  सुधार    ,  उनकी  श्रेष्ठता  देखकर   बड़ों  का  मन  कचोटने  लगे ,  वे  चुपचाप  अपने  किये  का  पश्चाताप  करें   और  अपनी  बुराइयों  को  सुधारने  लगें    ।  बच्चों  की  सरलता  और  पवित्रता  में  वह  शक्ति  है  जो  बड़ों  को   सुधार  दे   । 

No comments:

Post a Comment