Wednesday, 23 March 2016

संगत का असर होता है

   संगत    किसी  की  भी  हो   उसका  प्रभाव  मनुष्यों  पर  पड़ता  है   l   श्रेष्ठ  चरित्र  के  व्यक्ति  के  साथ  रहने  पर    सामान्य  व्यक्ति  भी    सन्मार्ग  पर  चलने  लगता  है     ।   कोई  अच्छे  चरित्र  का  व्यक्ति   दुष्ट - दुराचारी    के  साथ  रहने  लगे  तो  उसका  भी  पतन  शुरू  हो  जाता  है  ।
  संगत  चाहे  मनुष्यों  की  हो  या  बेजान  वस्तुओं  की  उसका  असर  मनुष्यों  पर  पड़ता  ही  है      l   घर  में  यदि  अश्लील  साहित्य  है   तो  परिवार  के  बच्चे ,  बड़े  उसे  कभी  न  कभी  पढ़  ही  लेंगे  और  उसका  जहर  उनके  मस्तिष्क  में   घुस  जायेगा  ,  वे  गंदे  विचार  हर  समय  मन  में  उमड़ते  रहेंगे  ,  किसी  भी  कार्य  में  मन  केन्द्रित  नहीं  हो  पायेगा   और  धीरे - धीरे  चारित्रिक  पतन  होने  लगेगा  l
  जीवन  बड़ा  अनमोल  है  ,  प्रत्येक  कदम  बड़ा  सोच - समझ  के  उठाना  चाहिए    । ।  जो  व्यक्ति    अपनी  सुरक्षा  के  लिए   या   अन्य    कारणों  से  अपने  पास  हथियार  रखते  हैं    तो  धीरे - धीरे  वे  बेजान  हथियार  भी   मनुष्य  के  मस्तिष्क  पर  अपना  असर  दिखाने  लगते  हैं   l   हथियारों  की  संगत  मनुष्यों  को  निर्दयी  बना  देती  है    और  जब  विभिन्न  हथियार  रखने  वाले  अपना  समूह  बना  लेते  हैं    तो  अत्याचार ,  अन्याय   उनके  स्वाभाव  में  आ  जाता  है     l
         आज  के  समय  में   ईश्वर  विश्वास  और  सद्बुद्धि  की  सबसे  ज्यादा  जरुरत  है  ।   जिसकी  मृत्यु  की  घड़ी  आ  गई  है   तो  हजार  सुरक्षा  के  इंतजाम  भी  उसे  बचा  न  सकेंगे    और  यदि  हमारे  पास  ईश्वर  की  दी  हुई  साँसे    हैं ,  और  सत्कर्म  की  पूंजी  है    तो  बड़ी  से  बड़ी  विपदा  भी  टल  जायेगी  ।
 व्यक्ति  जितना  इंतजाम  अपने  सुख - वैभव  ,  अपनी  सुरक्षा  के  लिए  करता  है    उसका  एक  बहुत  छोटा  सा  भाग    भी   सत्कर्म  में ,  ,  किसी   सेवा  कार्य  में  नि:स्वार्थ  भाव  से  करे    तो  उसके  सत्कर्म  ही  उसकी  रक्षा  करेंगे   l


No comments:

Post a comment