Tuesday, 29 March 2016

अपने मन को मत गिरने दो

      कोई  भी  व्यक्ति  सर्वगुणसंपन्न  नहीं  होता  ,  प्रत्येक  में  कोई - न - कोई  कमी  होती  है  ।  किसी  में  कोई  शारीरिक  कमी  होती  है ,  किसी  को  कोई  बीमारी  होती  है  ,  कोई  गरीब  है ,  कोई  नीची  जाति  का  है         कई  लोग  अपनी  कमियों  के  प्रति  बड़े  संवेदनशील  होते  हैं   ।   किसी  ने  कोई  व्यंग्य  कर  दिया ,  किसी  ने  हँसी  उड़ा  दी ,   तो  समाज  के ,  अपनों  के  ऐसे  व्यावहार  से  उनमे  हीनता  की  भावना  आ  जाती  है   ।   यह  हीनता  की  भावना  व्यक्ति  की  तरक्की  में  सबसे  बड़ी  रूकावट  है  ।
     आज  प्रतियोगिता  का  युग  है   ।  ऐसे  समय  में  दूसरों  की  उपेक्षा  करना ,  उनकी  खिल्ली  करना  ,  उन्हें  नीचा  दिखाना  ---- इन  कार्यों  को  लोग    अस्त्र  की  तरह  इस्तेमाल  करते  हैं    ताकि   सामने  वाला  हीन  भावना  से  ग्रस्त  हो  जाये ,   और  सब  तरफ  वे  ही  छाये  रहें  , उनका  वर्चस्व   रहे  ।
   इसलिए  यदि  अपने  जीवन  में  सफल  होना  है  तो  अपने  मन  को  फौलाद  की  तरह  मजबूत  बनाओ ,  किसी  के  प्रहार  से  घायल  न  हो   ।  बिच्छू  का  तो  स्वाभाव  ही  होता  है  डंक  मारना,  उसे  नहीं  बदला  जा  सकता    ।
    अपनी  जिन्दगी  में  जो  अभाव  है  उसे  ख़ुशी  से  स्वीकार  करो   ।  कोई  हँसी  उड़ाता  है ,  नीचा  दिखाने  का  प्रयास  करता  है   तो  उस  पर  ध्यान  मत  दो,  निरन्तर  सही  रास्ते  से  आगे  बढ़ने  का  प्रयास  करो  ।
आत्मविश्वास  से  ही  व्यक्तित्व  प्रकाशित  होता  है   । 

No comments:

Post a comment