Tuesday, 15 March 2016

निंदा से परेशान न हों

  आज  लोगों  के  मन  इतने  अशांत  इसलिए  हैं   क्योंकि  वे  हर  समय  दूसरों  में  बुराई  खोजा  करते  हैं  ।  लोग  स्वयं  को  सकारात्मक  कार्यों  में  ,  सत्साहित्य  पढने  में  व्यस्त  नहीं  रखते   ।  अधिकांश  लोग  फुर्सत  के  समय  में  मित्रों  के  साथ  बैठकर   दूसरों  की  खिल्ली  उड़ाना,  निंदा  करना ,  दूसरों  को  नीचा  दिखाने   और   नुकसान  पहुँचाने  के  लिए  षड्यंत्र  रचते  हैं  । परिपक्व  आयु  के  व्यक्ति  भी  ऐसे  ओछे  कार्यों  में  अपनी  उर्जा  बर्बाद  करते  हैं     ।  इस  स्थिति  को  प्रत्येक  व्यक्ति  को  सहजता  से  स्वीकार  करना  चाहिए 

क्योंकि  ईर्ष्या  - द्वेष  वश   व्यक्ति  ऐसे  काम  करते  हैं   ।   निंदा  से  हम  परेशान   न  होकर   स्वयं  को  सकरात्काक  कार्यों  में  व्यस्त  रखें  l   जो  श्रेष्ठ  है  जिसके  ऊँचे  आदर्श  हैं  वह  कभी  निंदा  करेगा  नहीं   ।  शान्ति  से  जीने  का  यही  तरीका  है  कि  स्वयं  सन्मार्ग  पर  चले  और  लोग  क्या  कहते  हैं  इस  पर  ध्यान  न  दें   । 

No comments:

Post a Comment