Sunday, 13 March 2016

' शान्ति ' व्यक्ति की मन:स्थिति है

  संसार  में  हर  तरह  के  व्यक्ति  है  --- अनेक  ऐसे  हैं  जिन्हें  शान्ति  चाहिए  ही  नहीं   ।  ऐसे  लोगों  को  झगड़ा  करने  , षड्यंत्र  रचने  और  लोगों  को  आपस  में  लड़ाने  में  ही  आनंद  आता  है   ।  आज  ऐसे  लोगों  की  ही  अधिकता  है  , इसी  कारण   समाज    में  अशान्ति  है  ।
  जो  लोग  शान्ति  चाहते  हैं  वे  शान्ति  की  खोज  बाहर  करते  हैं  ---  अनेक  प्रकार  के  कर्मकांड  करेंगे ,  धर्म  के  ठेकेदारों  के  पास  जायेंगे    जैसे  ' शान्ति ' उनके  पास  झोले  में  रखी  हो ,  चढ़ावे  से  खुश  होकर  वे  आपको  दे  देंगे  ।
  यदि  ऐसा  होता  तो  आज  संसार  से  अपराध , युद्ध  खत्म  हो  गये  होते  ,  इतनी  अधिक  बीमारियाँ  न  होतीं ,  समाज  में  इतना  अन्याय ,  अत्याचार ,  भ्रष्टाचार  न  होता  !
  आज  सबसे  ज्यादा  जरुरी  है  कि  हम  अपने  मन  को  शांत  रखें ,  जब  हमारा  मन  शांत  होगा  तब  बाहर  का  कोलाहल  भी  हमें  अशांत  नहीं  कर  पायेगा  ।  जब  अधिकांश  लोगों  के  मन  शान्त  होंगे  तो  समाज  में  अपने  आप  शान्ति  आ  जायेगी  ।
  इसका  एक  ही  तरीका  है  ---  अपनी  बुराइयों  को  दूर  करें  और  अपने  ह्रदय  में  सच्चाई , ईमानदारी , धैर्य साहस ,  दया ,  संवेदना  आदि  सद्गुणों  को  विकसित  करें    ।  सद्गुणों  को  विकसित  करने  से  ही  मन  शांत  रहेगा  और   सकारात्मक  कार्यों  में  रूचि  बढ़ेगी  साथ  ही  अशांत  और  दुष्ट  स्वाभाव  के  व्यक्तियों  से  मुकाबला  करने  के  लिए  आत्म विश्वास , विवेक   और  साहस  विकसित  होगा  ।

No comments:

Post a comment