Wednesday, 30 March 2016

सुख - शान्ति से जीने के लिए सकारात्मक सोच जरुरी है

  जीवन  में  बड़ी  समस्याएं  तो  कभी - कभी  ही  आती  हैं  ,  व्यक्ति  को  प्रतिदिन  अनेक  छोटी - छोटी  समस्याओं  से  जूझना  पड़ता  है  ,  इन  समस्याओं  के  प्रति  अपना  रुख  नकारात्मक  होने  से  फिर  वही  समस्याएं  जटिल  हो  जाती  हैं   ।   जैसे   व्यापार  में  घाटा  हो    तो  इस  हानि  के  बारे  में  न  सोचें  ,  जो  सम्पति  अपने  पास  बची  है  उसकी  खुशी  मनाएं   ।  इसी  तरह  यदि  एक्सीडेंट  हो  जाये  ,  चोट  लग  जाये  तो  इस  बात  का  दुःख  न  मनाएं  ,  इस  बात  के  लिए  मन  को  खुश  रखें  की    जान  तो  बची  ।
   जान  है  तो  जहान  है  ।
  समस्या  ये  है  कि  सकारात्मक  सोच  बने  कैसे   ?   नकारात्मक  बातों  में  ज्यादा  मन  लगता  है   । निष्काम  कर्म  को    अपनी  दिनचर्या  में  सम्मिलित  करें   और  कभी  किसी  का  अहित  न  करें   ।  इससे  धीरे - धीरे  मन  में  यह    बात   बैठ  जायेगी  कि  जब  हम  किसी  का  अहित  नहीं  कर  रहें  हैं  तो  हमारा  अहित  नहीं  होगा    ।   ऐसी  सकारात्मक  सोच  से  समस्या  आसानी  से  हल  हो  जायेगी   । 

No comments:

Post a comment