Friday, 25 March 2016

शान्ति से जीने के लिए मन को संतुलित रखें

   प्रत्येक  व्यक्ति  के  जीवन  में  ऐसे  अवसर  आते  हैं  कि  कभी  उसे  सब  ओर  से  प्रशंसा  मिलती  है   तो  कभी  हर  कोई  उसकी  निन्दा  करता  है  l   अपने  प्रति  लोगों  का  जो  भी  विचार  हो  उसका  अपने  मन  पर  असर  न  होने  दें   ।   निन्दा  और  प्रशंसा  तो   सफलता  के  मार्ग  में  आने  वाले  छोटे-छोटे  स्टेशन  हैं  ,  उन  पर  रुक  कर  अपना  समय  नहीं  गंवाना  चाहिए   ।      जीवन  में  परिस्थितियां  चाहे  जैसी  रहे  ,  नियमित  सत्कर्म  करते  हुए    ईमानदारी  से  कर्तव्यपालन  किया  जाये   तो  जीवन  की  अधिकांश  समस्याएं    सरलता  से  सुलझ  जाती  हैं  और  इस  आपाधापी  के  संसार  में  भी   व्यक्ति  शान्ति  से  जीवन  जी  सकता  है   । 

No comments:

Post a comment