Monday, 14 March 2016

मानसिक अशान्ति का कारण है ---- सत्य से दूर होना

  कहते  हैं सत्य  में  बहुत  ताकत  होती  है    लेकिन  आज  मनुष्य  सत्य  से  बहुत  दूर  हो  गया  है   ।  अत्याधिक  धन  कमाने ,  वैभव - विलास  का  जीवन  जीने  के  लिए  मनुष्य  गलत  तरीकों  से  , लोगों  का  हक  छीनकर,  साधनों  का  ,  प्रकृति  का  शोषण  करके  धन  कमाता  है  ।  
  अच्छाई  में  बहुत  आकर्षण  होता  है    इसलिए  गलत  काम  करने  वाला  व्यक्ति  भी  अपने  ऊपर  अच्छाई  का  आवरण   ओड़  कर  ,  स्वयं  को  एक  सभ्य  और  भला  व्यक्ति  बनाकर  प्रस्तुत  करता  है  । अनेक  सीधे - सच्चे  लोग  ऐसे  लोगों  की  गिरफ्त  में  आ  जाते  हैं   ।
  कोई  किसी  की  सच्चाई  जाने  या  न  जाने  ,  व्यक्ति  अपनी  सच्चाई  स्वयं   जानता    है  ।  यह  सच  ही  उसकी  आत्मा  को  कचोटता  रहता  है  ,  इसी  वजह  से  आज  मनुष्य  भयभीत  है  ,  तनाव  में  है   ।
  शान्ति  से  जीना  ही  तो   अपना  यह  नकली  चेहरा  हटाना  होगा   क्योंकि  सच्चाई  कभी  छुपती  नहीं   ।
स्वयं  को  भुलावे  में  रखकर  व्यक्ति  स्वयं  अशांत  रहता  है  और  समाज  में  अशान्ति  पैदा  करता  है  । 

No comments:

Post a comment