Saturday, 19 March 2016

समाज में अशान्ति का कारण संवेदनहीनता है

 धन  का  लालच  और  बढ़ती  हुई  तृष्णा,  कामना  ने  मनुष्य   के  ह्रदय  के  प्रेम  को  भी  प्रदूषित  कर  दिया  है    ।  अब  प्रेम  में  त्याग  और  बलिदान  नहीं  ,   अब  प्रेम  का  का  नाम  स्वार्थ  और  शोषण  है  ।
             प्रेम  एक   व्यापक  शब्द  है  ,  जिसके  ह्रदय  में  प्रेम  होता  है    वह  सम्पूर्ण  पर्यावरण  में  किसी  को  भी  नुकसान  पहुँचाना  नहीं  चाहता    जैसे  किसी  को  फूलों  से  प्रेम  है  ,  यदि  बगिया  से  कोई  फूल  तोड़  कर  फेंक  दे  तो  बहुत  दुःख  होगा    ।   आज  व्यक्ति  का  प्रेम  स्वार्थी    है  ,  वह  सोचता  है  कि  केवल  उसकी  बगिया  में  फूल  खिलें  ,  शेष  सब  चाहे  बंजर  हो  जाये  ।
  ऐसी  संकुचित  सोच  की  वजह  से  ही  अशान्ति  है   ।    लोग  कहते  हैं  हमें  अपनी  धरती  से  प्रेम  है ,  देश  से  प्रेम  है  ,  लेकिन  भ्रष्टाचार  कर  के  वे  देश  को  ही  लूटते  हैं  ,  धन  के  लालच  में    वनों  को  काटते  हैं ,    पहाड़ों  को  काट - काट  कर  खोखला  कर  देते  हैं  ,   ये  कैसा  प्रेम  है  !
  आज  समाज  पर  दुर्बुद्धि  का  प्रकोप  है  --- समाज  में  जो  अशान्ति  के  कारण  हैं   ---- नशा ,  अश्लीलता ,  तम्बाकू ,  मांसाहार  ---- इन्हें  तो  कोई  नष्ट  नहीं  करता  ,  इनके  माध्यम  से   धन  कमाते  हैं  ।
  दुर्बुद्धि  ऐसी  हावी  है   कि  जिन  पर  हमारा  जीवन  निर्भर  है  ---- जल ,  प्रकृति ,  पेड़ - पौधे ,  पहाड़  ,  खनिज  सम्पदा  --- इसी  को  नष्ट  करने  पर  उतारू  हैं  ।
  ह्रदय  में  संवेदना  के  स्रोत  को  जाग्रत  करना  होगा    ,  ईश्वर  से  सद्बुद्धि  के  लिए  सामूहिक  प्रार्थना  करनी  होगी  । 

No comments:

Post a comment