Wednesday, 11 May 2016

संसार में अशान्ति का कारण है ईश्वर से दूर होना

    आज  के  समय  में  मनुष्य  विभिन्न  कर्मकांड  करके  स्वयं  के  धार्मिक  और  आस्तिक  होने  का  दावा  करता  है  |  विभिन्न  धर्मो  के  सद्ग्रंथों  में   बताये  गये  नैतिकता  के  नियमों  का  पालन  करना  व्यक्ति  को  कठिन  लगता  है   ।    यही  कारण  है  कि   अथक  परिश्रम  करके  ,  सही - गलत  विभिन्न  तरीकों  से  व्यक्ति  धन  तो  बहुत  कमा  लेता  है  ,  भोग - विलास  का  जीवन  भी  जीता  है   लेकिन  नैतिकता  और  मर्यादा  न  होने  के  कारण   उसके  जीवन  में  आनन्द  नहीं  होता   ।  कामना - वासना  कभी  समाप्त  नहीं  होती   इसलिए  व्यक्ति   मनोरोगों  का  शिकार  हो  जाता  है   ।   जीवन  में  संतुलन  जरुरी  है  ,  भौतिकता  के  साथ  नैतिकता   का ,  आध्यात्मिकता  का  समावेश  जरुरी  है  ।
    सामान्य  रूप  से  लोगों   की  यह  सोच  होती  है  कि  नैतिकता  की ,   सच्चाई   की  राह  बड़ी  कठिन  होती  है   ।  जब  गलत  राह  पर  चलकर   ,  लोगों  का  शोषण  करके  खूब  धन  कमाया  जा  सकता  है  ,  भोग - विलास  का  जीवन  जिया  जा  सकता  है   तो  नैतिकता  की  कठिन  राह  पर  चलने  की  क्या  जरुरत  ?
    आज  के  इस  भौतिकतावादी  युग  में   जब  चारों  ओर  आकर्षण  हैं  हमें  सुख  शान्ति  से  जीना  है  तो  मध्यम  मार्ग  अपनाना  होगा   ।  जीवन  को  इस  ढंग  से  जीना  होगा  कि  हमारी  सुख - सुविधा ,  भोग - विलास  की  आवश्यकताएं  भी  संतुष्ट  हो  जाएँ   और  नैतिकता   और   सत्कर्मों  का  पालन  भी  हो  जाये  ।
    वे  सब  लोग  जिन्हें  अपने  जीवन  से  प्यार  है ,   अपनी  आने  वाली  पीढ़ियों  का  स्वस्थ  और  खुशहाल  जीवन   चाहते  हैं  ,  शारीरिक  और  मानसिक  रूप  से  स्वस्थ  रहना  चाहते  हैं,  ईश्वरीय  कृपा  का  आनन्द  उठाना  चाहते  हैं    उन्हें  सांसारिक  सुख - भोग  का  जीवन  जीने  के  साथ - साथ  आध्यात्मिकता  का  ,  सच्चाई , ईमानदारी , कर्तव्यपालन , संवेदना  ,  सेवाभाव   आदि  सद्गुणों   का     जीवन  में   समावेश  करना  होगा  |  

No comments:

Post a Comment