Sunday, 1 May 2016

शान्ति से जीने के लिए कुछ देर मौन रहें

 मौन  रहने  के  लिए  जरुरी  है  कि  मौन  के  समय  हमारा  मन  कोई  नकारात्मक  और  बेसिर - पैर  की  बातें  न  सोचे   ।  मनुष्य  का  मन  चंचल  होता  है  ,  जब  मौन  होंगे ,  चुपचाप  बैठना  चाहेंगे  तभी   सारे  बुरे  विचार  मन  पर  आक्रमण  कर  देते  हैं   और   मन  पवित्र  नहीं  रह  पाता  ।
   हमारे  पास  कोई  शक्ति   हो  जो  सारे  कुत्सित  विचारों  को  मार  कर  भगा  दे  ।  वह  शक्ति  ईश्वर  है  ,  जब  मौन  बैठें  तो  ,  मन  में  ईश्वर  से  बाते  करें  ,  उनसे  किसी  प्रकार  के  लालच ,  कामना  की  बातें  न  करें  ।   स्वयं  से  जो  गलतियाँ  हुई  हैं  ,  उन्हें  बताएं   व  प्रार्थना  करें  कि  ईश्वर  हमें  शक्ति  दे  कि  हम  अपनी  बुराइयों  को  दूर  करें   और  हमारे  जीवन  को  सही  दिशा  मिले  ।
   जब  व्यक्ति  मौन  रहेगा   तभी  उसे  समझ  में  आयेगा  कि  उसके  पास   जो  पद - प्रतिष्ठा  है ,  कोई  योग्यता  है  ,  कोई  शक्ति  है  ,  वह  उसे  ईश्वर  ने  किसी  विशेष  उद्देश्य  के  लिए  दी  है  ,  समाज  के  कल्याण  के  लिए  दी  है  ।  स्वयं  का  जीवन  सही  ढंग  से  जीने  के  साथ - साथ   लोक - हित  में  भी  उसका  उपयोग  करना  चाहिए  ।
 मौन  रहने  में  हम  ईश्वर  के  निकट  होते  हैं  ,  जीवन  की  अनेक  समस्याओं  के  हल  मौन  रहने  से  ही  मिलते  हैं  ।    लेकिन  बड़े - बड़े  अधिकारी  ,  नेता   ,  वैभव - संपन्न  लोग  हमेशा  चापलूसों  से  घिरे  रहते  हैं   वे  ईश्वर  से  दूर  और  चाटुकारों  के  निकट  हो  जाते  हैं  ,  इसलिए  उनके  कार्य  भी  चापलूसों  की  ख़ुशी  के  लिए  ही  होते  हैं ,  ईश्वर  को  प्रसन्न  नहीं  कर  पाते  ।
  यदि  शान्ति  चाहिए  तो  सारे  संसार  में   सब  लोग  कुछ  देर  मौन  रहकर  , श्रद्धा  और  विश्वास  से  अपनी  भाषा  में   ,  मन- ही- मन   में   अज्ञात  शक्ति  से  संसार  में  सुख - शान्ति  के  लिए  नियमित  प्रार्थना  करें । 

No comments:

Post a comment