Wednesday, 4 May 2016

सुख - शान्ति से तभी रहा जा सकता है जब स्वयं के विचार और कर्म अच्छे हो

 हम  देखते  हैं  कि  राक्षसी  प्रवृति   के  लोग  हर  युग  में  रहे  हैं   जिन्होंने  अपनी  दुष्प्रवृतियों  से  समाज  को  उत्पीड़ित  किया  है  ।  इनकी  प्रवृतियों  को  बदलना  बहुत  कठिन  है   ।  जब  तक  व्यक्ति  स्वयं  न  सुधारना  चाहे  ,  उसे   भगवान  भी  नहीं  सुधार  सकते  ।
  इसलिए  जरुरी  है  कि  युग  के  अनुरूप   हम  स्वयं  को  बदले   ।   अच्छे  विचार  और  अच्छे  कर्म  का  मतलब  यह  नहीं  कि  हम  कायर  बन  जायें  ।  हम  कर्मयोगी  बने   ।   जीवन    के  विभिन्न   क्षेत्रों  के  प्रति  स्वयं  का  जो  कर्तव्य  है  उसका  ईमानदारी  से   पालन    करें  ।  शान्ति  से  रहने  के  लिए  बहुत  जरुरी  है  कि   अन्याय  का  सामना    करें   ।  अत्याचार  को  चुपचाप  सहन    न  करें   ।  प्रत्येक  व्यक्ति  जब  स्थिर  बुद्धि  से   अन्यायी  का  सामना  करेगा  ,  उनके  हौसले  पस्त  करेगा  ,  तभी  उसका  जीवन  शान्ति  से  बीतेगा  ।  ऐसे  लोग  जब  अधिक  होंगे  तभी  समाज  में  शान्ति  होगी     । 

No comments:

Post a comment