Tuesday, 17 May 2016

सुख- शान्ति से जीने के लिए अज्ञात शक्ति पर विश्वास जरुरी है

  आज  लोग   धर्म  के  नाम  पर  कर्मकाण्ड  तो  बहुत  करते  हैं  लेकिन  ऐसे  लोग  इस  धरती  पर  बहुत  कम  होंगे  जो   जो  ईश्वर  के  अस्तित्व  में  विश्वास  करते  हों  ।
  संसार  में  शान्ति   तभी  होगी  जब  सब  लोग  उस  अज्ञात  शक्ति  में  विश्वास  करेंगे  जो  इस  संसार  को  चला  रही  है  ।  इस  संसार  में  अनेक  शक्तिशाली ,  राजा - महाराजा   और  सूरमा  हुए  लेकिन  उनके  आने  से  पहले  भी  यह  संसार  चल  रहा  था   और  उनके  जाने  के  बाद  भी  संसार   उसी  गति  से  चल  रहा  है  `।    यदि  लोग  इस  सत्य  को  स्वीकार  कर  लें  की  ---- ईश्वर  है  ,  वह  हर  पल  हमें  देख  रहा  है  ,  हमारे  अच्छे - बुरे  कर्मों  का  हिसाब  लिख  रहा  है  ,  हमारे  मन  के  तार  ईश्वर  से  जुड़े  हैं    इसलिए  हमारे  हर   विचार  की ,  हमारे  मन  में  जो  कुछ  चल  रहा  है  उसकी  खबर  भी  ईश्वर  को  है  ------ ऐसा  विश्वास  रखने  पर   व्यक्ति  ईश्वर  से  भयभीत  रहेगा  ,  वह  कभी   कोई  गलत  कार्य  नहीं  करेगा  ।  किसी  का  शोषण , उत्पीड़न  नहीं  करेगा   ।
  ईश्वर  की  अनुभूति  कैसे  हो  ?   जैसे  इंटरनेट  का  कनेक्शन  सही  होने  पर  हम  सारे  संसार  से  जुड़  जाते  हैं  ,  एक  भी  तार  गलत  होगा , क्लिक  गलत  होगा  तो  यह   जुड़ाव  नहीं  हो  सकेगा    ।  ठीक  यही  बात  ईश्वर  के  संबंध  में  है  --- जब  हमारा  मन  निर्मल  होगा  ,  हम  केवल  एक  पल  के  लिए  संसार  को  भूलकर  ईश्वर  को  याद  करेंगे  ,  उसी  पल  हमें  ईश्वर  की  अनुभूति  होगी    और  इस  एक  पल  का  कनेक्शन  ही  हमें  आनंदित  कर  देगा   ।  ईश्वर  श्रेष्ठताओं  का  समुच्चय  है    इसलिए  ईश्वर  की  अनुभूति  के  लिए   हमें   अपनी  दुष्प्रवृतियों  को  छोड़कर  सद्गुणों  को  अपनाना  होगा  ।  

No comments:

Post a comment