Friday, 13 May 2016

संसार में सुख - शान्ति के लिए मानसिक आवेश , क्रोध पर नियंत्रण जरुरी है

  संसार  में  अधिकांश  उत्पात  ,  अशान्ति    या  तो  अनैतिकता  के  कारण  होते  हैं  या  व्यक्ति  के  मानसिक  आवेश ,  क्रोध  और  उदिव्ग्नता   के  कारण  होते  हैं  ।  छोटी - छोटी  बात  पर  कत्ल, खून - खराबा , दलबंदी  ,  आत्महत्या  आदि  घटनाएँ  सुनने  को  मिलती  हैं   ।  आवेश  के  बदले  आवेश , क्रोध  के  बदले  क्रोध    के  कारण  ही   परिवार , समाज  और  संसार  में  झगड़े  और  अशान्ति  है  ।
  भयानक  काण्डों  के  मूल  में  कभी  इतने  छोटे   कारण  होते  हैं  कि  यदि  व्यक्ति  का  मन  संतुलित  हो ,  उदारता  से  काम  ले   तो  उन्हें  बड़ी  आसानी  से  हल  किया  जा  सकता  है  ।

प्रत्येक  व्यक्ति  यदि  अपने  मन  को  संतुलित   रखने  का  प्रयास  करे  ,  किसी  बात  पर  आवेश  ग्रस्त   और  उतावले  न  हों  ,  धैर्य  से  काम  लें  तो  परिवार  के  , संसार  के  अधिकांश  झगड़े  दूर  हो  जाएँ  ।
  संसार  में   सुख - शान्ति  के  लिए  जितनी  अनिवार्यता    नैतिकता  की  है   उतना  ही  जरुरी  है  कि  व्यक्ति  आवेश  ग्रस्त  और  तुनक  मिजाज  न  हो  । बिगड़ी  हुई  परिस्थितियों  का  सामना   बड़ी  बुद्धिमता  और  धैर्य  के  साथ  किया  जाये   । 

No comments:

Post a comment