Thursday, 12 May 2016

श्रेष्ठ सिद्धान्तों को आचरण में लाने की जरुरत है

  श्रेष्ठ  सिद्धान्तों  की  उपयोगिता  से  सब  परिचित  हैं ,  इसीलिए  प्रारम्भिक  शिक्षा  से  लेकर   कॉलेज  शिक्षा  तक  ' नैतिकता '  को  एक  विषय  के  रूप  में  पढ़ाया  जाता  है   ।  लेकिन  नैतिकता   के  नियम  केवल  रटने  और  जिह्वा  पर  रहने  के  लिए  नहीं  हैं    उनका  हमारे  विचारों  में ,   मन  में    रहना  और  कर्मेन्द्रियों  द्वारा  आचरण  में  ,  हमारे  व्यवहार  में  लागू  किया  जाना  जरुरी  है  ।
समाज  में  अशान्ति  का  कारण  यही  है  कि  भौतिकता    में  तो  वृद्धि  हुई  है   लेकिन  नैतिकता  को  भुला  देने  के  कारण  राक्षसी  प्रवृति  में वृद्धि  हुई   है  ।
  प्रत्येक  व्यक्ति  अपने  जीवन  में  नैतिकता  का  पालन  करे  ,  कठोर नियम  बनाकर   नैतिकता  का  पालन  हर  उम्र  और  हर  वर्ग  के  व्यक्ति  के  लिए  अनिवार्य    हो  ।  धीरे - धीरे  लोगों  को  इसकी  आदत  बन  जाएगी  तभी  संसार  में  शान्ति  होगी   अन्यथा  बाहरी  युद्ध  नहीं ,  मनुष्य  के  अन्दर  का  महाभारत  ही  उसे  समाप्त  कर  देगा   । 

No comments:

Post a Comment