Saturday, 28 May 2016

धर्म और संस्कृति की रक्षा के लिए श्रेष्ठ चरित्र जरुरी है

 अनेक  लोगों  की  यह  मान्यता  है  कि  उनके  धर्म  को  मानने  वाले  जितने  अधिक  होंगे   उतना  ही  अधिक  धर्म  का  प्रचार  होगा  और  वह  स्थायी  होगा   लेकिन   चाहे  धर्म  हो , संस्कृति  हो  या  शिक्षा  हो  ------ संख्यात्मक  वृद्धि  से   उसका  स्तर  नहीं  सुधरता  ,  गुणात्मक  वृद्धि  होनी  चाहिए   ।
   जिस  धर्म  व   जाति  में  श्रेष्ठ  चरित्र  के  लोगों  की  अधिकता  होगी  वही  दीर्घकाल  तक  जीवित  रहेगा   और  उसी  में  महान  आत्माएं  जन्म  लेंगी  ।  इतिहास  साक्षी  है  किसी  भी  शराबी ,   व्याभिचारी  ,  अनैतिक  और  भ्रष्ट  व्यक्ति  के  यहाँ  किसी  महान  आत्मा  ने  जन्म  नहीं  लिया   ।   बबूल  के  पेड़  में  आम  नहीं  लगता   ।
  आज  की  सबसे  बड़ी  जरुरत  है  चरित्र - निर्माण  की   ।  इससे  संसार  की  अनेक  बड़ी - बड़ी  समस्याएं  स्वत:  ही  हल  हो  जायेंगी   । 

No comments:

Post a comment