Saturday, 7 May 2016

निष्काम कर्म से आप अपने लिए सुन्दर दुनिया बना सकते हैं

   संसार  में  जितनी  भी  समस्याएं  हैं ,  परेशानियाँ  हैं ,  दुःख , तकलीफ  और  मुसीबतें  हैं  ,  समाज  के  ईर्ष्यालु  और  अहंकारी  लोगो  की  कुटिल  चालों  और  षडयंत्रों  के  बीच  भी  शान्ति  से  जीने  का  एकमात्र  रास्ता  है  ------ निष्काम  कर्म   ।  जब  व्यक्ति  नि:स्वार्थ  भाव  से   सत्कर्म  करता  है  तो  धीरे - धीरे  उसकी  बुद्धि  निर्मल  होती  जाती  है  ।   विकार  दूर  होने  लगते  हैं  ।   सत्कर्मों  के  साथ  जब  व्यक्ति  संसार  में  अपने  कर्तव्यों  का  पालन  भी  ईमानदारी  और  नि:स्वार्थ  भाव  से  करता  है  तो  जीवन  की  विभिन्न  समस्याएं  बड़ी  सहजता  से  हल  हो  जाती  हैं  ।
  हमें  समस्याओं  से  भागना  नहीं  है  ।  आज  संसार  में   लोगों  के  ह्रदय  की  संवेदना   सूख   गई  है   ।  हम  भूख  हड़ताल  करके ,  कार्य  करना  छोड़  कर  ,  स्वयं  को  कष्ट  देकर  समस्याओं  से  मुक्ति  नहीं  पा  सकते            समस्याओं  से  निपटने  के  लिए  हमें  कर्मयोगी  बनना  होगा   ।  निरंतर  कर्म  करते  हुए  ईश्वर  का  स्मरण  करने  से  ही  वह  शक्ति  प्राप्त  होगी  जो  हमें  सुख - शान्ति  और  सफलता  प्रदान  करेगी   । 

No comments:

Post a comment