Monday, 9 May 2016

जैसे धन जमा करते हैं वैसे ही प्रकृति में पुण्य संचित कीजिये

   आज  के  समय  में  व्यक्ति  नेक  कार्य  तो  बहुत  करता  है  किन्तु  धैर्य  न  होने  के  कारण  वह  उन्हें  संचित  नहीं  करता  है  ,  उसका  एक  बड़ा  भाग  खर्च  कर  देता  है    जैसे   कई  लोग  गाय  पालते  हैं  ,  उसकी  सेवा  करते  हैं    ,  इसका  पुण्य  तो  मिला  लेकिन  बदले  में  दूध   बेचकर  पैसा  कमा   लिया  तो  पुण्य    बहुत  कम  संचित  हो  पाया  ।  फिर  वृद्ध  गाय  को   भटकने  को  छोड़  दिया  तो  जो   पुण्य   था  वह  भी  समाप्त  हो  गया  ।   इसी  तरह  लोग  बहुत  बड़ी  धन - राशि  दान  करते  हैं  उसके  बदले  में  टैक्स  में  छूट  ले  लेते  हैं  ।   कई  समाज  कल्याण  के  काम  अपना  नाम ,  यश  कमाने  के  लिए  करते  हैं  ।
      कुछ  ऐसे  सत्कर्म  अवश्य  करने  चाहिए  जिनका  प्रतिफल  देने  का  काम  ईश्वर  पर  छोड़  दें  ।   जीवन  में  अनेक  विपत्तियाँ  आती  हैं   ।  यदि  हमारे  पास  पुण्यों  का  संचित  भंडार  है   तो  प्रकृति  स्वयं  उन  पुण्यों  से   विपत्तियों  को  काट  देती  है  ।   इससे  उन  विपत्तियों  की  चुभन  बहुत  कम  हो  जाती  है   ।
  सुख - शान्ति  से  जीने  के  लिए  सत्कर्मों  का  भंडार  निरंतर   भरते  रहें    ।  

No comments:

Post a comment